बिलासपुर। Bilaspur Health News: 100 बिस्तर के मातृ शिशु अस्पताल में अब गंभीर बच्चों के इलाज के लिए हाई डिपेंडेंस यूनिट(एचडीयू) तैयार की जा रही है। इसके बाद गंभीर हालत में पहुंचने वाले बच्चों को बेहतर उपचार मिल सकेगा। सीएमएचओ व प्रभारी सिविल सर्जन डॉ. प्रमोद महाजन ने बताया कि इस यूनिट का निर्माण कार्य 90 प्रतिशत पूरा हो चुका है। अंतिम कार्य को पूरा किया जा रहा है। आने वाले एक से दो महीने के भीतर यह काम भी पूरा हो जाएगा। इसके बाद सघन चिकित्सा कक्ष को शुरू कर दिया जाएगा। यहां गंभीर बच्चों को बेहतर इलाज मिलेगा।

उन्होंने बताया कि एक वर्ष से लेकर 12 वर्ष तक के गंभीर बच्चे जिन्हें इमरजेंसी इलाज की जरूरत होती है, कई बार सुविधा नहीं होने के कारण उन्हें निजी अस्पताल जाना पड़ता था। लेकिन अब इन बच्चों को मातृ शिशु अस्पताल में इलाज मिलेगा। इसके लिए चार बेड की हाई डिपेंडेंस यूनिट लगभग तैयार हो चुकी है। गंभीर बच्चों को पहले इसी वार्ड में भर्ती कर उनका इलाज किया जाएगा। हालत में सुधार होने पर बच्चों को जरनल वार्ड में रखकर उपचार किया जाएगा।

डॉ. महाजन ने बताया कि अस्पताल की तीसरी मंजिल पर बन रहे सघन चिकित्सा कक्ष में भर्ती बच्चों का इलाज कैसे करना है, इसके लिए डॉक्टरों की ट्रेनिंग होगी। ट्रेनिंग में डॉक्टरों को यूनिट से जुड़ी सभी बारीकियों की जानकारी दी जाएगी ताकि भर्ती होने वाले गंभीर बच्चों के इलाज में किसी तरह की परेशानी न हो। मालूम हो कि कुछ दिनों पहले राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ. अमर सिंह ठाकुर ने अस्पताल के निरीक्षण के दौरान बच्चों के बेहतर इलाज के लिए यूनिट को जल्द से जल्द शुरू करने के निर्देश दिए थे।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local