Bilaspur News: बिलासपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिले की 43 से अधिक ग्राम पंचायतों के सरपंचों व सचिवों ने पांच वर्ष पहले राज्य व केंद्र शासन की योजनाओं के क्रियान्वयन में जमकर गड़बड़ी की है। आंतरिक मूल्यांकन में 10 करोड़ की गड़बड़ी सामने आई है। विभाग ने ऐसे पूर्व सरपंचों व सचिवों को नोटिस जारी कर जवाब पेश करने को कहा है। नोटिस के बाद पूर्व सरपंचों व सचिवों में हड़कंप मच गया है।

जिले की 43 पंचायतों के पूर्व सरपंच व सचिवों ने बीते पांच वर्ष पहले ग्राम पंचायत में कराए गए कार्यों का मूल्यांकन नहीं कराया है। आंतरिक मूल्यांकन के दौरान इस तरह का फर्जीवाड़ा सामने आया है। आंतरिक मूल्यांकन के दौरान इस पर घोर आपत्ति दर्ज कराई गई है। पंचायत विभाग द्वारा वर्ष 2016-17 से वर्ष 2020-21 तक बीते पांच वर्ष के दौरान विभिन्न् योजनाओं के तहत पंचायतों में कराए गए कार्य का आंतरिक मूल्यांकन कराया गया है। मूल्यांकन के दौरान कोटा और मस्तूरी जनपद पंचायत क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली 43 ग्राम पंचायतों में 10 करोड़ रुपये से अधिक के कामकाज का हिसाब नहीं मिल रहा है। आंतरिक मूल्यांकन में निर्माण कार्यों का सत्यापन रिपोर्ट भी जमा नहीं की गइ्र है। जिस कार्य के लिए शासन द्वारा बजट की स्वीकृति दी गई थी उस कार्य में खर्च न कर दूसरे कार्य में खर्च कर दिया गया है। मद परिवर्तन का मामला सामने आया है। पंचायतों में व्यय की गई राशि का कोई हिसाब नहीं है। बिल व्हाउचर भी जमा नहीं किया गया है।

कराए गए निर्माण कार्यों का कच्चा व्हाउचर जमा किया गया है। जीएसटी बिल भी नहीं है। इसे लेकर आपत्ति दर्ज कराई गई है। नेवासा, मगर उछला, सेलर, हरदी, तेलसरा, लिमहा, भैंसबोड़, पौंसरा, परसदा सहित जिले की 43 पंचायतों के पूर्व सरपंच व सचिवों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है। आंतरिक आडिट रिपोर्ट में आई आपत्ति और 10 करोड़ की गड़बड़ी के बाद पंचायत विभाग के अफसरों ने इसे गंभीरता से लेना शुरू कर दिया है। पूर्व सरपंचों के साथ ही उस दौर के ग्राम पंचायत सचिव की जिम्मेदारी है कि आंतरिक आडिट में जिन कार्यों में दस्तावेज पेश न करने की आपत्ति दर्ज कराई गई है संंबंधित दस्तावेज पेश करना होगा। आडिट टीम के समक्ष एक-एक आपत्ति का निराकरण करना होगा। निराकरण नहीं होने की स्थिति में वसूली की कार्रवाई भी हो सकती है। इसे लेकर अब पूर्व सरपंचों के साथ ही पंचायत सचिवों में हड़कंप मचा हुआ है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close