Bilaspur News: बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। कलेक्टर सौरभ कुमार ने मंगलवार को मंथन सभाकक्ष में टीएल की बैठक में राज्य सरकार की फ्लैगशीप योजनाओं एवं लंबित मामलों के निराकरण की प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने विभिन्न योजनाओं की प्रगति की जानकारी लेते हुए और तेज गति से काम कर लक्ष्य हासिल करने के निर्देश दिए। उन्होंने अधिकारियों को धान खरीदी केंद्रों का नियमित दौरा कर निगरानी करने को कहा। उन्होंने कहा कि धान बेचने आए किसानों को कोई दिक्कत न हो, इसे देखें। रकबा त्रुटि में सुधार के लिए लगभग 1200 मामले बचे हैं। इनका भी जल्द से जल्द निराकरण करने के निर्देश दिए।

अधिकारियों ने बैठक में बताया कि गोठानों में पशुओं को खिलाने के लिए 702 ट्राली पैरा का संग्रहण किया जा चुका है। 65 हजार टन से ज्यादा धान की आवक खरीदी केंद्रों में दर्ज की जा चुकी है, जो कि जिले की अनुमानित लक्ष्य का 16 प्रतिशत है। कलेक्टर ने कहा कि प्रदेश के अन्य जिलों की तरह बिलासपुर में भी एक दिसंबर से 21 दिसंबर तक राज्यव्यापी सघन टीबी एवं कुष्ठ खोज अभियान संचालित किया जाएगा। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को आपसी तालमेल के साथ अभियान का व्यापक प्रचार-प्रसार कर शंकास्पद रोगियों की पहचान करने को कहा है।

रकबा में सुधार का काम हो रहा विलंब

समर्थन मूल्य पर धान बेचने वाले उन किसानों की दिक्कतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं, जिनको रकबा में सुधार कराना है। पंजीयन के बाद रकबा में गड़बड़ी के कारण धान बेचने में अड़चन आ रही है। रकबा में सुधार का कार्य राजस्व विभाग के मैदानी अमले को करना है। इसमें पटवारी की भूमिका सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है। पटवारी द्वारा काम में विलंब किए जाने के कारण रकबा में सुधार नहीं हो पा रहा है।

कुष्ठरोगियों की होगी पहचान

प्रदेश के साथ ही जिले में कुष्ठरोगियों की पहचान के लिए एक बार फिर अभियान चलेगा। राज्य शासन के निर्देश पर गौर करें तो रोगियों की पहचान होने के बाद उनके नाम सार्वजनिक नहीं किए जाएंगेे। नाम छिपाकर रखा जाएगा। ऐसे रोगियों की गंभीरता के साथ स्वास्थ्य विभाग द्वारा इलाज किया जाएगा। इलाज के दौरान भी दवाओं का वितरण गोपनीय ढंग से किया जाएगा।

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close