बिलासपुर/मुंगेली। नईदुनिया प्रतिनिधि।

ग्राम छीतापुर के क्वारंटाइन सेंटर में शुक्रवार की शाम सात बजे उल्टी-दस्त व बुखार से पीड़ित मूक बधिर युवक की हालत बिगड़ने लगी। जिला अस्पातल ले जाते समय रास्ते में ही उसकी मौत हो गई।

ग्राम छीतापुर निवासी मूक बधिर पुनीत टंडन(22 वर्ष) 10 मई को हैदराबाद से अपने गांव छीतापुर आया था। उसे गांव के प्राथमिक शाला भवन के क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया था। 22 मई को शाम सात बजे युवक को उल्टी-दस्त व बुखार होने पर गांव की मितानिन ने दवा दी। पुनीत इशारे से अपनी समस्या बताता रहा। इसके बाद भी उल्टी होने पर उसे रात नौ बजे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पंडरभट्ठा ले जाया गया। जहां उसे उपचार कर वापस क्वारंटाइन सेंटर छीतापुर भेज दिया गया। 23 मई को सुबह आठ बजे युवक ने इशारे से दो बार उल्टी व दो बार दस्त होने की जानकारी दी। युवक की गंभीर स्थिति को देखते हुए उसे जिला अस्पताल ले जाने के लिए एंबुलेंस खुलाई गई। एंबुलेंस आने में विलंब होने पर गांव के ही निजी ऑटो से जिला अस्पताल ले जाया जा रहा था। श्रमिक कि अस्पताल पहुंचने से पहले ही मृत्यु हो गई। अस्पताल में मृतक का आरडी किट से कोरोना टेस्ट किया गया। इसकी रिपोर्ट नेगेटिव आई है। युवक का आरटीपीसीआर सैंपल लेकर रायपुर भेजा गया है। कलेक्टर के निर्देशानुसार रिपोर्ट आने तक युवक का शव सिम्स बिलासपुर भेजा गया है। वहीं स्वास्थ्य विभाग द्वारा क्वारंटाइन सेंटर में रह रहे 16 प्रवासी श्रमिको का आरडी किट से जांच की गई है। सभी की रिपोर्ट नेगेटिव आई है।

दो दिन पहले प्रसव के दौरान बच्चे की गई थी मौत

पुनीत अपनी गर्भवती पत्नी के साथ हैदराबाद से आकर छीतापुर क्वारंटाइन सेंटर में रह रहा था। उसकी पत्नी को दो दिन पूर्व प्रसव पीड़ा होने पर सिम्स बिलासपुर भेजा गया था। जहां प्रसव के दौरान उसके बच्चे की भी मौत हो गई थी। वहीं पुनीत की पत्नी की हालत गंभीर बनी हुई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस