बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

रेलवे पार्सल से संक्रमण का खतरा देखते हुए अब कार्यालय में सभी पार्सल सैनिटाइज किए जा रहे हैं। इसकी शुरुआत गुरुवार से हो गई है। कार्यालय के कर्मचारियों के अलावा हमालों को भी पूरी सावधानी बरतने के लिए निर्देश दिए गए हैं।

रेलवे ने यह व्यवस्था 'नईदुनिया ' की खबर के बाद लागू की है। 29 अप्रैल के अंक में इससे जुड़ी खबर प्रकाशित की गई थी। इतवारी, टाटा समेत कुछ अन्य जगहों से प्रतिदिन दो से तीन टन पार्सल बिलासपुर रेलवे स्टेशन पहुंचता है। पार्सल में दवा के अलावा सूखी मिर्च व अदरक आदि दैनिक उपयोग की चीजें होती हैं। सीधे घर में उपयोग होने वाली सामग्री होने के कारण संक्रमण से बचाव का पुख्ता इंतजाम बेहद जरूरी था। लेकिन रेलवे लोडिंग व अनलोडिंग में इतनी व्यस्त था कि जरूरी उपायों तक को दरकिनार कर रही थी। जबकि सामान जहां से आ रहे हैं उनमें से ज्यादातर जगह रेड जोन में हैं। खासकर नागपुर का मोमिनपुरा। यह इतवारी से तीन किमी की दूरी पर है। इस लिहाज से इतवारी रेलवे स्टेशन में सुरक्षा के ज्यादा उपाय करने की आवश्यकता है। वहां लोड होने वाले पार्सल को सैनिटाइज ही नहीं किया जाता है। प्रतिदिन दो से तीन टन लोडिंग के बाद बिलासपुर रेलवे स्टेशन पहुंचता है। यहां पहुंचने के बाद हमाल भी बिना दस्ताना व मास्क के सीधे हाथों से पार्सल को उतारकर कार्यालय ले आते थे। पार्सल शहर में अलग-अलग जगहों पर सप्लाई हो जाती है। इसके बाद घरों तक पहुंचता है। इसके चलते हर पल संक्रमण का खतरा है। अब जब स्थिति खतरनाक हो गई है और कभी भी संक्रमण फैल सकता है। इसे देखते हुए रेल प्रशासन ने फरमान जारी किया है कि चाहे पार्सल कहीं से पहुंचे कार्यालय में उसे सैनिटाइज किया जाएगा। इसे ठोस कदम के बाद काफी हद तक संक्रमण का खतरा टल गया है। इस व्यवस्था से पार्सल के अधिकारी व कर्मचारियों के अलावा हमालों ने भी राहत की सांस ली है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना