बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)।

जोनल स्टेशन में जांच के नाम पर केवल खानापूर्ति की जा रही है। ट्रेन से उतरने के बाद थर्मल स्क्रीनिंग होती है। इसके बाद यह कहते हुए भेज दिया जाता है कि घर पर क्वारंटाइन रहें। जबकि अन्य राज्य सरकारें ट्रेनों से पहुंचने वाले यात्रियों को संक्रमण फैलाने का बड़ा कारण मान रही हैं। उनकी आपत्ति के बाद ही नियमित ट्रेन साप्ताहिक बनकर चलने लगी हैं।

पश्चिम बंगाल सरकार ने संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए रेलवे बोर्ड से अपील की थी। इसके बाद दो ट्रेन 02834 हावड़ा-अहमदाबाद स्पेशल को प्रत्येक शुक्रवार को रवाना करने का निर्णय लिया गया है। यह व्यवस्था आज से लागू हो गई है। इसी तरह 02833 अहमदाबाद-हावड़ा स्पेशल ट्रेन 13 जुलाई से प्रत्येक सोमवार को अहमदाबाद से रवाना होगी। वहीं 02810 हावड़ा-मुंबई स्पेशल ट्रेन 15 जुलाई से प्रत्येक बुधवार को हावड़ा और 02809 मुंबई-हावड़ा स्पेशल ट्रेन 17 जुलाई से प्रत्येक शुक्रवार को मुंबई से छूटेगी। ट्रेन के जरिए संक्रमण फैलने का खतरा होने के बाद भी बिलासपुर रेलवे स्टेशन में यात्रियों की जांच के लिए पुख्ता इंतजाम नहीं है। ट्रेन से उतरने पर यात्री की थर्मल स्क्रीनिंग होती है। यदि शरीर का तापमान ठीक रहा तो उन्हें जाने दिया जाता है। केवल तापमान देखकर पुष्टि कर पाना संभव नहीं है। लेकिन इस ओर किसी का ध्यान नहीं है। जिला व रेल प्रशासन दोनों ही इसे नजरअंदाज कर रहे हैं। जबकि श्रमिक स्पेशल से पहुंचने वाले कुछ मजदूरों का रैपिड टेस्ट होता है। यात्री होम क्वारंटाइन हो रहे हैं या नहीं, इसकी जांच करने वाला भी कोई नहीं है। स्टेशन में जांच होने से पुष्टि हो जाएगी। इससे संक्रमण फैलने की आधी आशंकाएं कम हो सकती हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags