बिलासपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत 20 करोड़ रुपये की लागत से घरों के नल में इलेक्ट्रॉनिक मीटर लगाने का प्रस्ताव था। इस पर कलेक्टर ने रोक लगा दी है। दिक्कत यह है कि इतनी राशि खर्च की गई तो उसकी वसूली कैसे होगी।

स्मार्ट सिटी इम्पावर कमेटी की बैठक बुधवार को हुई। इस कमेटी में कलेक्टर, एसपी, पर्यावरण विभाग के अधिकारी, श्रम अधिकारी आदि सदस्य हैं। इन्हें स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा प्रस्तावित योजनाओं के संदर्भ में जानकारी दी गई। इस दौरान सभी योजनाओं पर अधिकारियों ने अपनी सहमति दे दी है। केवल एक योजना पर एएमआर मशीन पर कलेक्टर ने आपत्ति की। उन्होंने कहा कि इस प्रोजेक्ट में करोड़ों रुपये खर्च हुए तो उसकी रिकवरी कैसे होगी।

इसका जवाब किसी के पास नहीं था। इस पर अधिकारियों को तत्काल इस मामले को पेंडिंग में डालने के निर्देश दे दिए गए हैं। उल्लेखनीय है कि नगर निगम लोगों के घरों में एएमआर ऑटोमेटिक मीटर रीडर लगाने जा रहा था। इसे लगाने से लोगों के घरों में जाकर पानी उपयोग की रीडिंग करने की जरूरत नहीं पड़ती। एक कंट्रोल रूम में लोगों के घरों की रीडिंग आटोमेटिक दर्ज हो जाएगी।

इस काम में निगम ने 20 करोड़ रुपये खर्च करने का इस्टीमेट तैयार किया था। कलेक्टर की नाराजगी के बाद इसे पेंडिंग में डाल दिया गया है। अन्य योजनाओं पर धीमे काम को लेकर अधिकारियों पर नाराजगी भी जताई। इसके अलावा जिन योजनाओं से लोग प्रभावित हो रहे हैं, संबंधितों को इसकी पूर्व सूचना देने के निर्देश भी दिए गए, जिससे लोग भी मानसिक रूप से प्रस्तावित प्रोजेक्ट के लिए तैयार रहें। इस बैठक के बाद स्मार्ट सिटी के काम में तेजी आने की उम्मीद की जा रही है। सभी अधिकारियों ने इस प्रोजेक्ट के तहत प्रस्तावित काम में जरूरत पड़ने पर मदद का भी भरोसा दिलाया।

ऐसा है स्मार्ट सिटी का प्रस्तावित प्रोजेक्ट

वर्टिकल गार्डन- जवाली नाला के ऊपर बनी सड़क पर दोनों ओर गार्डन बनाया जाएगा। इसमें चार पहिया वाहन प्रतिबंधित रहेगा।

व्यवसायिक कॉम्प्लेक्स- पुराना बस स्टैंड को तोड़कर नया व्यवसायिक कॉम्प्लेक्स का निर्माण किया जाएगा।

नया बाजार- बृहस्पति बाजार को तोड़कर उसकी जगह पर मल्टीस्टोरी कॉम्प्लेक्स का निर्माण होगा। नीचे चिल्हर सब्जी बेचने वालों के लिए चबूतरा भी होगा। ऊपर की मंजिल में कार्यालय और थोक विक्रेताओं की दुकानें होंगी।

हैप्पी स्ट्रीट- श्रीकांत वर्मा मार्ग में सड़क पर एक तरफ ट्रैफिक बंद करके बीच सड़क पर विभिन्न तरह की गतिविधियां होंगी। सामान बेचने से लेकर प्रचार-प्रसार में भी इसका उपयोग किया जा सकता है।

इम्पावर कमेटी में आला अधिकारियों के सामने हमने स्मार्ट सिटी के प्रस्तावित प्रोजेक्ट के संदर्भ में जानकारी दी है। इसमें एक को छोड़कर बाकी पर सहमति मिल गई है। पीके पंचायती प्रभारी, स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट

अनोखा कैफे : घर से कबाड़ लाइए, भरपेट भोजन करके जाइए

रायपुर में जमाखोरी पर कसी नकेल तो गिरने लगे प्याज के दाम