बिलासपुर। Bilaspur News: उसलापुर ओवरब्रिज के करीब मालगाड़ी की चपेट में आए शहर के व्यवसायी की मौत की वजह पांच दिन बाद भी स्पष्ट नहीं हो सकी है। गुरुवार को उम्मीद थी कि चालक के बयान के बाद कुछ जानकारी मिल जाएगी लेकिन वे भी नहीं पहुंचे। जीआरपी दिनभर इंतजार करती रही। चालक को काल भी किया गया है। उन्होंने आने की बात कही, लेकिन नहीं पहुंचे। अब जीआरपी नोटिस जारी करने की तैयारी में है।

चार अप्रैल की रात आठ बजे शहर में संचालित तीन विवाह घर साई आनंदम, आकांक्षा पैलेस व चैतन्य वाटिका के मालिक भूपेंद्र पांडेय पिता हुबलाल पांडेय की मालगाड़ी की चपेट में आने से मौत हो गई। सूचना के बाद जीआरपी पहुंची। बाद में स्वजनों को पोस्टमार्टम के बाद शव अंतिम संस्कार के लिए सौंप दिया गया, लेकिन उनकी मौत अभी तक पहेली बनी हुई है।

अब तक स्पष्ट नहीं हुआ है कि यह आत्महत्या है या दुर्घटना या फिर हत्या। यह जांच जीआरपी को करनी है। इसके मद्देनजर ही गुरुवार को उस चालक को बुलाया गया था, जिस मालगाड़ी से यह घटना हुई है। चालक पहुंचने वाला है यही सोचकर जांच अधिकारी व एएसआइ भूपेश राठौर थाने में इंतजार करते रह गए, लेकिन वे नहीं आए।

राठौर के अनुसार उन्हों शुक्रवार को उपस्थित होने की बात कही है। यदि इसके बाद भी बयान के लिए नहीं आते हैं तो नोटिस जारी किया जाएगा। यह मामला जीआरपी के लिए संदेहास्पद हो गया है, क्योंकि मृतक का मोबाइल घटना स्थल पर नहीं मिला है।

आज या कल स्वजनों से पूछताछ करेगी जीआरपी

जांच अधिकारी के अनुसार एक-दो दिनों बाद स्वजनों से पूछताछ की जाएगी। इसके लिए वे उसलापुर स्थित मृतक के घर जाएगी। बयान के आधार पर जीआरपी आगे की कार्रवाई करेगी।

Posted By: Yogeshwar Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags