बिलासपुर। खेत में काम करने के दौरान किसान को सांप ने काट लिया। इससे उनकी तबीयत बिगड़ गई। स्वजन ने उसे बेहोशी की हालत में सिम्स में भर्ती कराया है। सिम्स के मेडिकल वार्ड में मरीज का इलाज चल रहा है। डाक्टरों का कहना है कि मरीज का सघन इलाज किया जा रहा है। फिलहाल मरीज की हालत सामान्य है। धीरे-धीरे सेहत में सुधार आएगा।

चकरभाठा के रहने वाले 50 वर्षीय किशन लाल सतनामी खेती किसानी का काम करते हैं। गुस्र्वार की सुबह वे अपने परिवार के साथ काम करने खेत गए थे। इसी दौरान सांप ने किशन को काट लिया। उन्होंने इसकी जानकारी अपने स्वजन को दी। कुछ समय पर किशन की तबीयत बिगड़ गई। इसके बाद स्वजन ने गाड़ी की व्यवस्था कर सिम्स लेकर पहुंचे। सिम्स के डाक्टरों ने तत्काल इलाज शुरू किया। सिम्स के डा. पंकज ने कहा कि शहर हो या ग्रामीण क्षेत्र में वर्षा के मौसम में सर्पदंश की ज्यादा घटनाएं सामने आती हैं। अधिकांश मामलों में यह देखने को मिलता है कि ग्रामीण क्षेत्रों में सर्पदंश के बाद मरीज को पहले निकट के अस्पताल लाने की बजाय इधर-उधर इलाज करवाते हैं।

ऐसे में जब मरीज के शरीर में सांप का जहर पूरी तरह फैल जाता है, तब उसे अस्पताल लाते हैं। ऐसी लापरवाही बरतने पर मरीजों को बचाना मुश्किल होता है। जहरीले सांप के काटने से जहर तेजी से फैलता है। इसलिए मरीज को जल्दी से जल्दी निकट के अस्पताल में भर्ती कराना चाहिए। एंटी स्नेक इंजेक्शन तत्काल लगने और सही देखभाल से उसकी जान बचाई जाती है। जिले के सभी अस्पतालों, सीएचसी(सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र), पीएचसी(प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र), जिला अस्पताल में आवश्यकतानुसार एंटी स्नेक इंजेक्शन उपलब्ध हैं। सांप के काटने पर फौरन मरीज को नजदीकी अस्पताल लाने पर जान बचाई जा सकती है।

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close