Bilaspur News: बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। छत्तीसगढ़ के सभी जिलों में आने वाले दिनों में माडल शासकीय उचित मूल्य की दुकानें होंगी। चावल व शक्‍कर के अलावा धनिया, मसाला व चायपत्ती की भी बिक्री होगी। खास बात ये कि राशन दुकानों में मिलने वाली सामग्री बाजार मूल्य से कम कीमत में मिलेंगी। राशन कार्डधारकों के अलावा आम आदमी भी इन माडल दुकानों से सामान खरीद सकेंगे। पांच किलोग्राम का गैस सिलिंडर भी मिलेगा।

राज्य शासन की योजना पर नजर डालें तो आने वाले दिनों में प्रदेश में उचित मुल्य दुकान चलाने वाले संचालकों की आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। खाद्यान्न् के अलावा उचित मूल्य की दुकान में अन्य वस्तुुुओं की बिक्री होगी। राज्य शासन ने जिले में माडल राशन दुकान की योजना पर काम कर रही है। प्रदेश के 73 लाख 27 हजार परिवार को पीडीएस के तहत खाद्यान्न् की आपूर्ति की जा रही है। एपीएल कार्डधारकों को भी हर महीने चावल व शक्कर की आपूर्ति की जा रही है। चावल व शक्कर के अलावा अब कार्डधारकों को जस्र्रत के अनुसार अन्य खाद्य सामग्रियों की भी आपूर्ति यहां से की जाएगी।

जिन खाद्य सामग्रियों की बिक्री होगी उसकी कीमत बाजार में मिलने वाली वस्तुओं से कम रहेगी। कार्डधारकों के अलावा अन्य लोगों को भी सामग्री खरीदने की सुविधा दी जाएगी। महिलाओं व बच्चों को कुपोषण से दूर रखने के लिए आने वाले दिनों में प्रत्येक राशन दुकानों में फोर्टीफाइड चावल का वितरण किया जाएगा। इसमें सभी प्रकार के कार्डधारकों को यह सुविधा मुहैया कराई जाएगी।

जमा करनी होगी सुरक्षा निधि

राशन दुकान में अब पांच किलोग्राम का रसोई गैस सिलिंडर की आपूर्ति भी की जाएगी। इसके लिए एलपीजी गैस एजेंसी संचालकों से अनुबंध किया जाएगा। एजेंसी संचालकों द्वारा राशन दुकान संचालकों को पांच किलोग्राम का सिलिंडर उपलब्ध कराया जाएगा। जिन कार्डधारकों या अन्य लोगों को पांच किलोग्राम का सिलिंडर राशन दुकान से खरीदना है उनको पहले सिलिंडर की सुरक्षानिधि जमा करनी होगी। सिलिंडर की खरीदने के एवज में सुरक्षानिधि जमा रहेगी। अगर कोई उपभोक्ता रिफिलिंग सिलिंडर दूसरे महीने नहीं लेना चाहता है तो उसे सुरक्षा निधि वापस कर दी जाएगी।

फैक्ट फाइल

- गरीबों को निश्शुल्क चावल का वितरण- 64.15 लाख

- अनुसूचित जनजाति के कार्डधारकों की संख्या- 21.61 लाख

- अनुसूचित जाति के कार्डधारकों की संख्या- 10.22 लाख

- अन्य पिछड़ा वर्ग के कार्डधारकों की संख्या- 34.7.लाख

- सामान्य वर्ग के कार्डधारकों की संख्या- 6.6.लाख

- उचित मूल्य दुकान की संख्या-13 हजार 415

- अन्त्योदय परिवार की संख्या- 14.49 लाख

- निराश्रित परिवार की संख्या- 38 हजार

- प्राथमिकता कार्ड वालों की संख्या- 49.15 लाख

- नि:शक्तजन कार्डधारकों की संख्या- 14 हजार

- एपीएल कार्डधारकों की संख्या- 9.10 लाख

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close