बिलासपुर। Bilaspur News: पार्षदों के इस्तीफे के बाद चर्चा में आए बिल्हा नगर पंचायत के सीएमओ मनोज कुमार बंजारा एक नहीं बल्कि तीन नगर पंचायत के सीएमओ हैं। दरअसल बिल्हा में पदस्थ मनोज को नगरीय प्रशासन विभाग ने मुंगेली और सरगांव नगर पंचायत का भी प्रभार सौंपा है। पार्षदों का कहना है कि नगरीय प्रशासन मंत्री का खास होने के कारण उन्हें यह सौगात मिली है।

बिल्हा नगर पंचायत के अंतर्गत आने वाले पार्षदों ने काम नहीं करने देने का आरोप सीएमओ मनोज कुमार बंजारा पर लगाया है। इसे लेकर सोमवार को पार्षदों ने कलेक्टर को इस्तीफा भी सौंप दिया है। दरअसल पार्षदों ने आरोप लगाया है कि जब से सीएमओ बंजारा बिल्हा में ज्वाइनिंग दी है तब से पार्षदों को काम नहीं करने दे रहे हैं। इससे क्षेत्र का विकास रुक गया है। दूसरी ओर यह भी जानकारी मिली है कि ​मनोज बंजारा बिल्हा के अलावा मुंगेली और सरगांव नगर पंचायत के भी प्रभार में हैं। एक अधिकारी को तीन नगर पंचायत का प्रभार सौंपने को लेकर भी पर्षदों ने सवाल खड़े किए हैं। उनका कहना है कि बिल्हा में सिर्फ एक दिन आते हैं। वार्डों की सफाई नहीं हो रही है। राशन कार्ड नहीं बन रहे हैं और न हो बुजुर्गों को पेशन मिल रही है। अधिकारी के मुख्यालय में नहीं होने से कामकाज ठप हो गया है।

लेखापाल को भी दो नपा का प्रभार

बिल्हा नगर पंचायत में पदस्थ लेखापाल नरेंद्र कुमार दुबे पर भी नगरीय प्रशासन विभाग के अधिकारी मेहरबान हैं। वे बिल्हा के साथ ही कोटा नगर पंचायत के प्रभार में हैं। बिल्हा में उनके नहीं रहने के कारण फाइलें पेंडिंग हो गई हैं। हितग्राहियों को भी चक्कर काटना पड रहा है।

वैकल्पिक व्यवस्था के तहत बिल्हा के अलावा दो अन्य नगर पंचायत की जिम्मेदारी सौंपी गई है। जहां तक बिल्हा में काम नहीं होने का सवाल है तो काम तो पार्षदों को ही कराना होगा। पार्षदों का आरोप लगत है। वे खुद मुझ पर पैसे देने का दबाव बनाते हैं।

मनोज कुमार बंजारा

सीएमओ बिल्हा नगर पंचायत

Posted By: sandeep.yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local