Bilaspur News: बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। छत्तीसगढ़ शासकीय उचित मूल्य दुकानों के संचालक व विक्रेताओं ने छह सूत्री मांगों को लेकर गुस्र्वार को कोन्हेर गार्डर से रैली निकाली। उन्होंने कलेक्टोरेट पहुंचकर मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर सौरभ कुमार को ज्ञापन सौंपा। इसी के साथ ही संघ का तीन दिवसीय धरना-प्रदर्शन समाप्त हो गया।

ज्ञापन के माध्यम से राशन दुकान संचालकों ने कहा कि विक्रेताओं और हितग्राहियों के बीच सर्वर एवं कांटा कनेक्टिविटी के चलते विवाद की स्थिति उत्पन्न् हो रही है। प्रदर्शन के दौरान संघ के पदाधिकारियों ने मांग की कि जिस प्रकार से शासन द्वारा विक्रेताओं से काम कराया जा रहा है, उस प्रकार से विक्रेताओं के लिए मानदेय की व्यवस्था की जाए। इससे विक्रेताओं की आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। दूसरे राज्यों में विक्रेताओं को मानदेय प्रदान किया जाता है।

इसके अलावा कमीशन की राशि में वृद्धि करते हुए तीन सौ रुपये प्रति क्विंटल किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वर्ष 2016-17 में वितरण व्यवस्था में परिवर्तन किया गया। इसके तहत बिना किसी प्रशिक्षण के टैबलेट द्वारा वितरण व्यवस्था लागू की गई। इसके चलते विके्रताओं को तकनीकी समस्या से जूझना पड़ा। इसके अलावा सर्वर की समस्या होने पर बीच-बीच में आफलाइन वितरण कराया गया। इसकी जानकारी आनलाइन अपलोड नहीं हो सकी। साथ ही कहा कि पिछले दो माह से सर्वर की लगातार समस्या आ रही है। लेकिन अभी तक कोई सुधार नहीं किया गया है।

14 दिसंबर को रायपुर में प्रदर्शन

राशन दुकान संचालक विक्रेता कल्याण संघ के जिला अध्यक्ष ऋषि उपाध्याय ने बताया कि जिला स्तर पर तीन दिवसीय धरना खत्म हो गया है। अब 14 दिसंबर को प्रदेश स्तरीय रायपुर में एक दिवसीय प्रदर्शन किया जाएगा। मांगों को लेकर शासन से बात करेंगे। उम्मीद है कि हमारी मांगों को पूरा किया जाएगा। यदि इस पर कोई निर्णय नहीं लिया जाता तो रणनीति बनाकर प्रदेश स्तर पर आंदोलन किया जाएगा। इसकी वजह से राशन वितरण की पूरी व्यवस्था ठप हो सकती है। इसकी पूरी जिम्मेदारी शासन की होगी।

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close