बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। एक ओर जहां अरपा नदी को संवारने के लिए बिलासपुर जिला कलेक्टर सौरभ कुमार और गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिला की कलेक्टर ऋचा प्रकाश चौधरी दिन रात मेहनत कर रहे हैं। दूसरी ओर रेत ठेकेदार अरपा नदी से खुलेआम रेत का अवैध उत्खनन कर रहे हैं। इन रेत माफिया को जिला प्रशासन का कोई भय नहीं है। खनिज विभाग के अधिकारी कार्रवाई करने में कोई स्र्चि नहीं दिखा रहे हैं। इसी का फायदा उठाकर माफिया बेखौफ होकर रेत का उत्खनन कर रहा है।

सेंदरी स्थित अरपा नदी में दिन-रात जेसीबी, ट्रैक्टर व हाइवा की लाइन लगी रहती है। जबकि सेंदरी रेत घाट पहले से बंद हो चुका है। बावजूद इसके आसपास रेत खनन जारी है। हालांकि खनिज विभाग द्वारा अवैध रेत उत्खनन को रोकने के लिए नगर निगम आयुक्त कुणाल ददावत, वनमंडल अधिकारी बिलासपुर निशांत कुमार, वनमंडल अधिकारी जीपीएम प्रेमलता यादव, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत जयश्री जैन समेत अन्य विभागीय अधिकारियों द्वारा मिलकर योजना बनाई जा रही है।

ये बनाई गई थी कार्ययोजना

11 नवंबर को कलेक्टर बिलासपुर सौरभ कुमार एवं कलेक्टर जीपीएम ऋचा प्रकाश चौधरी ने जिला स्तरीय बैठक लेकर नगर निगम द्वारा दूषित जल के स्वच्छ निवारण के बाद नदी में प्रवाह करने की कार्ययोजना बनाई थी। इसके अलावा वन विभाग द्वारा नरवा प्रोजेक्ट के तहत मृदा क्षरण को रोकने, नदी में जल प्रवाह को निरंतर बनाए रखने व नदी के किनारे पौधारोपण, जिला पंचायत द्वारा मनरेगा के तहत जल संरक्षण व भू-जल स्तर के संवर्धन के लिए भी कार्ययोजना बनाई गई थी।

न्याय मित्र कर रहे निगरानी

हाई कोर्ट से नियुक्त न्याय मित्र वाईसी शर्मा, एएस कछवाहा, यूएनएस देव, पीएल चंद्राकर, सीके केशरवानी, स्वर्ण कुमार चंदेल, अरविंद कुमार शुक्ला ने अपने महत्वपूर्ण सुझाव दिए थे। उन्होंने अरपा नदी के उद्यम स्थल का निरीक्षण करने के बाद अतिक्रमण हटाए जाने को जरूरी बताया था। इस पर 26 नवंबर को संयुक्त निरीक्षण किया गया।

सीएम के निर्देश की उड़ीं धज्जियां

सीएम भूपेश बघेल ने अवैध रेत उत्खनन पर सख्ती से रोक लगाने के निर्देश दिए थे। लेकिन बिलासपुर जिला में निर्देश की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। किसी भी जगह अवैध रेत खनन पर रोक नहीं लग पाई है। अब बिलासपुर जिला और जीपीएम जिला के कलेक्टर अवैध रेत खनन पर रोकने के लिए कार्ययोजना बना रहे हैं। रेत ठेकेदार दोनों कलेक्टर की योजना को पानी में फेर रहे हैं। वहीं, बिल्हा के चोरहा देवरी, खैरा डगनिया, उर्तुम व सीपत क्षेत्र में रोजाना अवैध रेत खनन की शिकायत मिल रही है।

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close