बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)।Bilaspur Railway News: प्रतिबंध के बावजूद ट्रेनों में पेंट्रीकार के संचालक खाना पका रहे हैं। इसी की जांच करने के लिए मंगलवार को आइआरसीटीसी की टीम ने पुरी जाने वाली उत्कल एक्सप्रेस की पेंट्रीकार में छापामार कार्रवाई की। इस दौरान टीम को पेंट्रीकार के अंदर चावल, दाल, आलू, प्याज, नमक, धनिया पाउडर व बड़ी मात्रा में रेलनीर के अलावा दूसरे ब्रांड की पानी बोतल मिली, जिसे जब्त कर लिया गया है। चूंकि यह ट्रेन दूसरे जोन की है। इसलिए जुर्माने की कार्रवाई करने आइआरसीटीसी सिकंदराबाद मुख्यालय को रिपोर्ट भेज दी है।

कोरोना संक्रमण के कारण रेलवे बोर्ड ने पेंट्रीकार में खाना पकाने पर पाबंदी लगाई है। अभी जितने भी टेंडर जारी किए जा रहे हैं वह पैकेट बंद सामान की ब्रिकी के लिए है।

पुराने ठेके समाप्त हो गए हैं। नए टेंडर की पहली शर्त ही केवल पैकेट बंद सामान बेचने की है, लेकिन पेंट्रीकार के संचालक नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए खुलेआम खाना बनाकर यात्रियों को परोस रहे हैं। पहले छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस और उसके बाद मुंबई-हावड़ा मेल और अब पुरी जाने वाली उत्कल एक्सप्रेस में सामने आई है।

ट्रेन के पहुंचने से पहले ही आइआरसीटीसी की टीम जोनल स्टेशन में तैनात हो गई। जैसे ही ट्रेन प्लेटफार्म एक पर आई टीम ने दबिश दी। जांच के दौरान टीम ने 25 किलो चावल, 25 किलो आलू, पांच किलो प्याज, तीन पैकेट नमक, आधा किलो धनिया पाउडर बरामद किया। पेंट्रीकार के कर्मचारी यह सामान खाना पकाने के लिए डंप कर रखे हुए थे।

पूछताछ में पता चला कि इस संचालन राठौर सर्विसेस नाम की कंपनी कर रही है। इसलिए जब्त के साथ रिपोर्ट बनाकर मुख्यालय भेजी गई है। मुख्यालय से संबंधित पर कार्रवाई करने की अनुशंसा की जाएगी।

दो दिन पहले भी मिली थी राशन सामग्री

उत्कल एक्सप्रेस की पेंट्रीकार में दो दिन पहले भी इसी तरह की लापरवाही सामने आई थी। इस दौरान भी सामान जब्त कर चेतावनी देकर छोड़ा गया था। पर संचालक पर इसका कोई असर नहीं हुआ और फिर से खाना पका रहा था। इसके चलते अब उसे जुर्माने की कार्रवाई का खामियाजा भुगतना पड़ेगा।

इन ट्रेनों में भी जांच

मंगलवार को आइआरसीटीसी ने जोनल स्टेशन से गुजरने वाली अन्य ट्रेनों की पेंट्रीकार की जांच की। इनमें हावड़ा-अहमदाबाद स्पेशल ट्रेन, कोरबा-अमृतसर छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस, जम्मूतवी एक्सप्रेस, मुंबई-हावड़ा मेल आदि ट्रेनें शामिल हैं। हालांकि जांच के दौरान उन्हें इन ट्रेनों में किसी तरह की लापरवाही नहीं मिली।

Posted By: sandeep.yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local