बिलासपुर। आरपीएफ ने ईमानदारी का और परिचय दिया है। स्टेशन के सर्कुलेटिंग एरिया में लावारिस पड़े बैग को उठाकर आरपीएफ पोस्ट लाया गया। यहां जांच करने में आरपीएफ दंग रह गई। बैग के अंदर के अंदर सोने का मंगलसूत्र, मोबाइल, दो घड़ी के अलावा 50 हजार रुपये नकद रखे थे। यात्री ने मोबाइल के आधार पर बैग मालिक का पता लगाया। इसके बाद सामान समेत सुरक्षित बैग यात्री को लौटा दिया गया।

बिलासपुर रेल मंडल सुरक्षा आयुक्त आरके शुक्ला के अनुसार मामला उमरिया का है। सर्कुलेटिंग एरिया में चौकी प्रभारी व पाली ड्यूटी में तैनात बल सदस्य ह्वीएस सिंह को तत्काल वहां भेजकर पुलिस थाना कोतवाली प्रभारी को बैग के बारे में बताया। स्थानीय थाना कोतवाली से सहायक उप निरीक्षक दिनेश तिवारी एवं सहायक उप निरीक्षक रोहणी प्रसाद मिश्रा मौके पर पहुंचे। भूरे रंग के उस बैग को की जांच करने करने पर उसमंे मोबाइल, नगद, सोने के आभूषण एवं अन्य सामान मिला। बैग में मिले मोबाईल के माध्यम से सूचना देने पर बैग मालिक द्वारा फोन उठाया गया।

पूछने पर वह उन्होंने अपना नाम पता शालिनी द्धिवेदी निवासी भदिया टोला मानपुर जिला उमरिया बताया और बताई कि वह 18233 नर्मदा एक्सप्रेस में बी - 04 कोच की बर्थ नंबर 33 व 36 में भोपाल से उमरिया तक यात्रा कर रही थी। उमरिया स्टेशन में ट्रेन से जल्द उतरी और सीधे कार में बैठकर चली गई । बैग स्टेशन के सर्कुलेटिग एरिया में भूल गई। इस जानकारी के बाद उन्हें आरपीएफ पोस्ट बुलाया गया। यात्री स्वजनों के साथ बैग की पहचान करने के लिए आरपीएफ पोस्ट पहुंची।

उसमें रखे सामान को चेक करने उपरान्त सही सलामत होना बताई। सामान की कीमत 275000 रूपये है। उक्त बैग को सही सलामत उपस्थित गवाहो के समक्ष सुपुर्द किया गया। उक्त महिला यात्री के द्वारा आरपीएफ उमरिया एवं स्थागनीय पुलिस कोतवाली का आभार व्यक्त किया गया। अमूमन छूटा सामन कभी नहीं मिलता।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close