Bilaspur Railway News: बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना संक्रमण के बाद से बिल्हा और बेलगहना स्टेशन में एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव बंद कर दिया गया था। इससे यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। सांसद अरुण साव के प्रयास से चार एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव इन दोनों स्टेशनों में दिया गया है। इससे यात्रियों को काफी राहत मिलेगी।

सांसद साव ने उठाया था मुद्दा

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व बिलासपुर सांसद अरुण साव ने पत्रों के माध्यम से 12 अगस्त 2021 , 17 दिसंबर 2021, 12 अगस्त 2021 व 26 नवंबर 2022 को रेलमंत्री और रेलवे अधिकारियों से विभिन्न ट्रेनों के ठहराव की मांग की थी। जिसे रेलमंत्री अश्वनी वैष्णव ने गंभीरता से लेते हुए चार ट्रेनों के ठहराव की स्वीकृति दी है। करगीरोड स्टेशन में 18233/34 इंदौर-बिलासपुर नर्मदा एक्सप्रेस व 18247/48 बिलासपुर-रीवा एक्सप्रेस, बेलगहना स्टेशन में इंदौर-बिलासपुर नर्मदा एक्सप्रेस तथा बिल्हा स्टेशन में टाटानगर-इतवारी पैसेंजर का ठहराव स्वीकृत किया है। इन विभिन्न छोटे रेलवे स्टेशनों पर मिले ट्रेनों के ठहराव से प्रतिदिन यात्रा करने वाले हजारों यात्रियों को भारी राहत मिलेगी।

परिवर्तित मार्ग से चलेंगी दो ट्रेनें

उत्तर पश्चिम रेलवे के जोधपुर रेल मंडल के अंतर्गत पीपाड़ रोड जंक्शन एवं राई का बाढ़ पैलेस जंक्शन रेलवे स्टेशनों के बीच दोहरीकरण का कार्य किया जाएगा। यह कार्य छह से 18 फरवरी को होगा। इस कार्य के फलस्वरूप दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे से चलने वाली कुछ गाड़ियों का परिचालन प्रभावित रहेगा। छह, सात, 13 एवं 14 फरवरी को भगत की कोठी से चलने वाली 20843 भगत की कोठी-बिलासपुर एक्सप्रेस परिवर्तित मार्ग फुलेरा-अजमेर- मारवाड़ जंक्शन- लूनी जंक्शन होकर चलेगी। नौ 11, 16 एवं 18 फरवरी को बिलासपुर से चलने वाली 20844 बिलासपुर-भगत की कोठी एक्सप्रेस परिवर्तित मार्ग लूनी जंक्शन-मारवाड़ जंक्शन- अजमेर-फुलेरा होकर चलेगी।

बीकानेर एक्सप्रेस का चौमहला स्टेशन में ठहराव

रेलवे प्रशासन द्वारा यात्रियों की मांग एवं उनकी यात्रा सुविधा हेतु गाडी संख्या 20845/20846 बिलासपुर-बीकानेर-बिलासपुर का प्रायोगिक ठहराव दो फरवरी तक पश्चिम मध्य रेलवे के कोटा मंडल के चौमहला स्टेशन में दिया गया है। चौमहला स्टेशन के यात्रियों की बेहतर यात्रा सुविधा के लिए इस ठहराव की सुविधा का विस्तार आगामी छह महीनों के लिए किया जा रहा है।

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close