बिलासपुर। ट्रेन में चोरियां बढ़ने लगी हैं। चोर रात में घटना को अंजाम देने के बाद रफूचक्कर हो जा रहे हैं। ऐसा ही एक मामला पुणे- हटिया एक्सप्रेस में सामने आया है। चोरों ने नासिक रोड निवासी एक यात्री का ट्राली बैग व लेपटाप पार कर दिया। बैग के अंदर इलेक्ट्रानिक उपकरणों के अलावा नए कपड़े, जूते व पर्स रखा हुआ था। चोरी गए सामान की की अनुमति कीमत 80 हजार रुपये आंकी गई है। बिलासपुर ट्रेन को अटैन कर आरपीएफ ने यात्री को अपराध दर्ज कराने का सुझाव दिया, लेकिन उन्होंने अंतिम स्टेशन में शिकायत दर्ज कराने की बात कही।

नासिक रोड बी-14 कोमल हाउस उप नगर नासिक निवासी सुभम चौधरी स्वजनों के साथ मनमाड़ से हटिया के लिए सफर कर हरे थे। उनका रिजर्वेशन एस-1 कोच की बर्थ नंबर 41, 43 व 44 में था। यात्री रेल मदद से सहयोग मांगा। जिसके ट्रेन का लोकेशन देखा। ट्रेन रायपुर से रवाना होकर बिलासपुर पहुंचने वाली थी। इसलिए मंडल सुरक्षा नियंत्रण कक्ष को जानकारी दी गई। ट्रेन के आते ही बिलासपुर आरपीएफ पोस्ट में पदस्थ उप निरीक्षक कुलदीप सिंह व सहायक उप निरीक्षक एसके बोस के द्वारा यात्री को अटैन किया गया। उनसे जानकारी ली गई। तब यात्री ने बताया कि चोरी गए सामान को अंतिम बार नागपुर रेलवे स्टेशन से ट्रेन रवाना होने के बाद देखा और रायपुर स्टेशन जब ट्रेन पहुंची तब दोनों बैग नहीं थो।

इस पर ट्रेन के टीटीई को इस संबंध में जानकारी दी गई। हालांकि उन्होंने भी आरपीएफ को सूचना देकर औपचारिकता पूरी कर ली। बिलासपुर में आरपीएफ के दोनों अधिकारियों ने घटना की जानकारी ली और उन्हें जीआरपी में रिपोट दर्ज कराने के लिए कहा। रेलवे में अच्छी सुविधा यह है कि घटना स्थल कोई भी रिपोर्ट दर्ज कराई जा सकती है। पर यात्री ऐसा करने से परेशानी होती। उन्हें सबसे पहले यात्रा रद करनी पड़ी। वह यह नहीं चाहते थे। इसलिए उन्होंने हटिया पहुंचकर जीआरपी में रिपोर्ट दर्ज कराने की बात कही। इधर रायपुर आरपीएफ को सूचना दी गई है, ताकि वह भी अपने स्तर पर मामले की छानबीन शुरू कर दें। केस डायरी हटिया से आने के बाद रायपुर जीआरपी असल अपराध दर्ज कर पतासाजी करेगी।

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close