बिलासपुर। Bilaspur Railway News: जोनल स्टेशन में आरपीएफ के जवानों ने प्लेटफार्म में सेगवे स्कूल से पैट्रोलिंग करना शुरू कर दिया है। दिन में तीन से चार बार एक से दूसरे छोर तक जांच करते हैं। दरअसल अभी शुरुआत है इसलिए सीमित समय तक ही जांच कर रहे हैं। इसे चलाने में जैसे- जैसे अन्य बल सदस्य परिपक्व होते जाएंगे। वैसे ही प्लेटफार्म ड्यूटी के दौरान पूरे समय जांच होगी। आरपीएफ पोस्ट को दो सेगवे स्कूल मिले हैं। इसे इसलिए दिया गया है ताकि जोनल स्टेशन की सुरक्षा व्यवस्था पर पहले ज्यादा कसावट आ सके।

स्टेशन के सभी प्लेटफार्म की लंबाई अधिक है। ऐसे में जांच प्रभावित होती थी। किसी हिस्से में विवाद, चोरी या अन्य अपराधिक घटनाएं हो जाती थी तो बल सदस्यों को पहुंचने वक्त लगता था। पर इस स्कूटर के जरिए बल सदस्य अविलंब पहुंच सकते हैं। यदि किसी यात्री का सामान चोरी कर कोई अपराधी भाग रहा है तब भी उसे आसानी से पकड़ा जा सकता है। स्टेशन में आठ प्लेटफार्म हैं। इसके अलावा प्लेटफार्म से लगा सेलून साइडिंग, पार्सल समेत अन्य विभागों के कार्यालय भी हैं।

इन सभी जगहों की सुरक्षा की जवाबदारी आरपीएफ की होती है। सेगवे मिलने के बाद बल सदस्य अब दिन में दो से तीन बार कार्यालय तक पहुंचकर जांच करते हैं। पुराने आरपीएफ पोस्ट में इस स्कूटर को चार्ज करने के लिए चार्जिंग पाइंट भी बनाया जा रहा है। इससे बल सदस्यों को सुविधा होगी। अभी नई बिल्डिंग में चार्ज करने के लिए आना पड़ता है। इसके कारण उन्हें समस्या भी होती है। मालूम हो कि इस स्कूटर के सामने की तरफ एक लाइट भी लगी है। आपातकालीन स्थिति में किसी अंधेरी जगह पर जाने में भी कठिनाई नहीं होगी। इसमें पकड़ने के लिए एक हैंडल है। जिसे आगे झुकाते ही सेगव की गति बढ़ती है। रफ्तार कम करने या ब्रेक लगाने के लिए इसे पीछे करना पड़ता है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local