बिलासपुर। Bilaspur Railway News: बिलासपुर रेल मंडल की सबसे लंबी दूरी की ट्रेन कोरबा-अमृतसर छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस की यात्रा अब आरामदायक व सुरक्षित होगी। रेलवे जल्द इसे एलएचबी(लिंक हाफमैन बुश) कोच के साथ चलाने वाली है। मंडल को 12 एलएचबी के नए कोच भी मिल गए हैं। हालांकि अभी इसे यार्ड में रखा गया है। स्लीपर, जनरल व जनरेटर कार आने के बाद कोचिंग डिपो में रैक तैयार किया जाएगा। रेलवे धीरे-धीरे सभी ट्रेनों की रैक को एलएचबी कोच में तब्दील कर रही है। छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस इससे छूटा हुआ था। हालांकि यह पहले एलएचबी कोच से चलने लगती। लेकिन उसी समय कोरोना ने दस्तक दी और ट्रेनों का परिचालन भी थम गया।

अब परिचालन सामान्य हो रहा है। इसलिए यात्रियों की सुविधाओं में भी इजाफा होने लगा है। एलएचबी कोच की खासियत है कि इसमें जगह बड़ी और दुर्घटना होने की स्थिति में कोच एक-दूसरे के ऊपर नहीं चढ़ते। दुर्घटना होने पर यात्रियों के सुरक्षित रखते हैं। इसीलिए छत्तीसगढ़ को भी एलएचबी कोच से चलाने की योजना बनाई गई है। जिस पर सहमति की मुहर लग गई है।

मालूम हो कि जब कोरोना संक्रमण नहीं फैला था, तब यह ट्रेन नियमित चलती थी। यही वजह है कि ट्रेन के लिए पांच रैक थे। पर वर्तमान में स्पेशल बनकर सप्ताह में केवल तीन दिन चल रही है। इसलिए कम रैक में ही परिचालन किया जा सकता है। एलएचबी बनते ही पांच स्लीपर और 12 एसी कोच हो जाएगा। दरअसल एलएचबी के स्लीपर कोच में 80 बर्थ रहते हैं। जबकि एसी में कम बर्थ रहती है।

बिलासपुर रेल मंडल के यह ट्रेन सबसे लंबी दूरी की है। इसे देखते हुए यात्रियों की सुविधा के लिए इसे एलएचबी कोच से चलाने का निर्णय लिया गया है। नए कोच आने के बाद रैक तैयार किए जाएंगे।

साकेत रंजन

मुख्य जनसंपर्क अधिकारी, दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे जोन

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local