बिलासपुर। शहर की स्वास्थ्य सुविधा को बेहतर व सरल बनाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने हमर क्लीनिक की शुस्र्आत कर दी है। नगर निगम सीमा अंतर्गत 14 जगहों पर क्लीनिक का संचालन किया जा रहा है। इससे सर्दी, बुखार, खांसी जैसे सामान्य बीमारियों से पीड़ित मरीजों को भीड़ भाड़ वाले बड़े अस्पतालों के चक्कर काटने नहीं पड़ रहे हैं। उन्हें अपने मोहल्ले में ही इलाज व दवा मिल रही है।

राज्य सरकार हर व्यक्ति तक चिकित्सा सुविधा पहुंचाना का प्रयास कर रही है। इसी के तहत शहर में हमर क्लीनिक का संचालन शुरू किया गया है। इसके पीछे वजह है कि गरीब तपके के लोगों को छोटी-छोटी बीमारियों के लिए बड़े सरकारी अस्पताल जाना पड़ता है। वहां भीड़भाड़ में इलाज कराने में कई तरह की दिक्कतें होती हैं। कई बार इसकी वजह से निजी अस्पताल जाकर उपचार कराना रहता है। वहां काफी स्र्पये खर्च हो जाते हैं।

हमर क्लीनिक की स्थापना से यह समस्या दूर करने का प्रयास किया गया है। इसके तहत शहर के स्लम और ज्यादा आबादी वाले क्षेत्र में हमर क्लीनिक खोले गए हैं। जहां सुबह व शाम की नियमित ओपीडी संचालित हो रहा है। ऐसे में यदि कोई सामान्य बीमारियों से पीड़ित हो रहा है तो उसका इलाज बिना किसी परेशानी के घर के पास ही हो जाता है। जहां पर इलाज के साथ ही उन्हें जरूरी दवा भी दी जाती है। इससे हमर क्लीनिक को अच्छा रिस्पांस मिलने लगा है।

बीपी व शुगर की निश्शुल्क जांच और दवा

हमर क्लीनिक की एक खासियत यह भी है कि यहां पर बीपी, शुगर के मरीजों का भी इलाज हो रहा है। निश्शुल्क बीपी, शुगर जांच की सुविधा है। साथ ही मरीजों को आवश्यक दवा दी जाती है। इससे बीपी व शुगर के मरीजों को बड़ी राहत मिली है।

निजी अस्पताल से मिला छुटकारा

शहरी क्षेत्र के गरीब व निचली बस्ती में रहने वाले लोगों को बीमार होने पर जिला अस्पताल और सिम्स जाना पड़ता है। यहां भीड़ की वजह से कई बार उपचार से वंचित हो जाते हैं। ऐसे में लोगों को निजी अस्पताल जाने के लिए बाध्य होना पड़ता है और उन्हें शासन की स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ नहीं मिल पाता है। साथ ही पैसे भी खर्च करने पड़ते हैं। वहीं अब हमर क्लीनिक खुल जाने से इस वर्ग के लोगों को बड़ी राहत मिल रही है। इलाज के लिए निजी अस्पताल नहीं जाना पड़ता है।

ये सुविधा मिल रही

सुबह नौ से दोपहर एक बजेऔर शाम में पांच से रात आठ बजे तक क्लीनिक का संचालन किया जा रहा है। एक क्लीनिक निगम के पांच से छह वार्डों के लोगों के इलाज करने में सक्षम है। सामान्य बीमारियों के साथ नेत्र रोग, नाक-कान-गला, गायनिक, आर्थो सहित अन्य बीमारी के इलाज की सुविधा है। बीपी, शुगर का इलाज भी हो रहा है। इसके साथ गैर संक्रामक बीमारी, आंखों की जांच सहित लैब में 30 प्रकार की जांच हो रही है।

ये है सेटअप

हमर क्लीनिक के लिए एक महीने पहले ही स्वास्थ्य विभाग ने संविदा भर्ती की थी। इसके अंतर्गत स्टाफ नर्स, एएनएम, चतुर्थ वर्ग कर्मचारी और कम्प्यूटर आपरेटर के पांच-पांच पदों पर नियुक्ति की गई है। एमबीबीएस डाक्टरों की भर्ती के लिए शासन स्तर पर रायपुर में प्रक्रिया की गई थी। इसके तहत हर क्लीनिक में एकडाक्टर पदस्थ किया गया है।

शहर के इन स्थानों पर है हमर क्लीनिक

- तिलक नगर सामुदायिक भवन

- कस्तूरबा नगर सामुदायिक भवन

- हेमूनगर साई मंदिर सामुदायिक भवन

- लोधीपारा सामुदायिक भवन

- टिकरापारा दुर्गा मंच सामुदायिक भवन

- गोंडपारा सामुदायिक भवन

- जूना बिलासपुर किला वार्ड साव वाचनालय

- तिफरा सामुदायिक भवन

- लोको कालोनी सामुदायिक भवन

- शंकर नगर सामुदायिक भवन

- सकरी सामुदायिक भवन

- बापू नगर सामुदायिक भवन

- तालापारा घोड़ादाना स्कूल

- खपरगंज कन्या प्राथमिक शाला

क्या कहते हैं अधिकारी

शहर के 14 स्थानों पर हमर क्लीनिक का संचालन शुरू कर दिया गया है। जहां पर सामान्य बीमारियों का उपचार एमबीबीएस चिकित्सक व उनकी टीम द्वारा किया जा रहा है और दवा भी दी जा रही है। इसके शुरू होने से क्षेत्रवासियों को बड़ी चिकित्सकीय राहत मिली है।

डा. प्रमोद महाजन

सीएमएचओ

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close