बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। अचानकमार टाइगर रिजर्व के दोनों प्रवेश बैरियर केंवची व शिवतराई हाईटेक हो चुका है। अब बचे चार बैरियर बारीघाट,अचानकमार,छपरवा व लमनी को सुरक्षित करने की तैयारी है। इसके लिए शासन को प्रस्ताव भेजा गया। बजट स्वीकृत होते ही हाईटेक बैरियर तैयार करने का काम शुरू हो जाएगा।

टाइगर रिजर्व होने के कारण यहां सुरक्षा बेहद जरूरी है। इसके बीच से मुख्य मार्ग निकला है। इसके कारण अमरकंटक, जबलपुर समेत मध्य प्रदेश के अन्य शहरों में जाने वाले इसी मार्ग का उपयोग करते हैं। हालांकि टाइगर रिजर्व प्रबंधन के द्वारा इस पर रोक लगाने का कई बार प्रयास किया गया, लेकिन कोर्ट के आदेश के बाद राहगीरों को गुजरने की अनुमति दे दी गई। साथ ही प्रवेश पर शुल्क भी लिया जाता है। यह प्रविधान में है। शुल्क निर्धारित होने बाद से पहले की तरह राहगीरों की भीड़ नहीं रहती। लेकिन जितने राहगीर गुजरते हैं, उनकी जांच टाइगर रिजर्व की सुरक्षा के लिहाज से जरूरी है।

जांच वाहन और गुजरने वाले व्यक्ति दोनों की होती है। इसलिए हाईटेक बैरियर की योजना बनाई गई है। मध्य प्रदेश की तरफ से आते हैं तो पहला बैरियर केंवची पड़ता है। वहीं, बिलासपुर से जाते समय शिवतराई बैरियर पहले हैं। इसलिए शासन से बजट मिलने के बाद टाइगर रिजर्व प्रबंधन के द्वारा दोनों बैरियर को सबसे पहले हाईटेक किया गया है। कैमरे के अलावा इलेक्ट्रॉनिक टिकट सबकुछ मिल रहा है। निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरा भी लगा हुआ है। इसी तरह अन्य चार बैरियर को भी सुरक्षित करने की योजना बनाई गई है।

जितनी सुरक्षा दोनों छोर के पहले बैरियर में पड़ती है, उतनी ही बीच के बैरियरों के लिए जरूरी है, क्योंकि बीच से कोई भी घुस सकता है। जंगल के जानकार भटकेंगे भी नहीं। टाइगर रिजर्व प्रबंधन को उम्मीद है की मुख्यालय से यहां की सुरक्षा को देखते हुए जल्द प्रस्ताव को हरी झंडी मिल जाएगी। इसके बाद प्रबंधन जितनी जल्द हो काम पूरा कर लेगा।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close