बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

अपनी खुद की सिलाई मशीन को ठेकेदार के घर जाकर मांग कर ले जाना बिजली कर्मी को महंगा पड़ गया। मशीन लेने घर पहुंचने से नाराज ठेकेदार व उसकी पत्नी ने मिलकर अपने पूर्व कर्मचारी की पीट-पीटकर हत्या कर दी। पुलिस ने मामले में आरोपित ठेकेदार को गिरफ्तार कर लिया है।

सरकंडा क्षेत्र के प्रगति विहार अटल आवास निवासी विजय साहू नेहरू नगर बिजली आफिस में अभिनव इंफोटेंज ठेका कंपनी के अधीनस्थ हेल्पर का काम करता है। उसके साथ राजाराम वस्त्रकार भी काम करता था। शुक्रवार को राजाराम अपने साथी विजय को लेकर रात करीब आठ बजे अपने पूर्व ठेकेदार सोनू मांझी के घर सिलाई मशीन को लेने गया था। दरअसल, राजाराम ने सिलाई मशीन को उसके पास रखवाया था, जिसे सोनू मांझी ने अपने पड़ोसी के यहां रख दिया था। इस दौरान सोनू मांझी ने पड़ोसी से मांगकर सिलाई मशीन को दे दिया। फिर राजाराम और विजय साहू वापस नेहरू नगर बिजली ऑफिस आ गए। इतने में पीछे-पीछे सोनू मांझी व उसकी पत्नी नीतू भी वहां पहुंच गए। उन्होंने राजा को बाहर बुलाया। उसके बाहर निकलते ही सोनू मांझी व उसकी पत्नी ने घर आकर सिलाई मशीन मांगने की बात पर उसके साथ गाली-गलौज शुरू कर दी। वहीं दोनों मिलकर राजाराम वस्त्रकार को जान से मारने धमकी देते हुए बेरहमी से पिटाई करने लगे। तभी सोनू ने उसे क्रांकीट सड़क पर पटक दिया और ताल-घूंसों से पिटता रहा। इससे राजाराम खून से लथपथ होकर घायल हो गया। तब विजय ने राजा की हालत देखकर पुलिस की डायल 112 को कॉल किया। पुलिस मौके पर पहुंच गई और उसे इलाज के लिए सिम्स ले गई। इधर, पुलिस के कहने पर विजय इस मामले की रिपोर्ट दर्ज कराने सिविल लाइन थाने पहुंचा। वहीं उपचार के दौरान सिम्स में राजाराम की मौत हो गई। युवक की हत्या की खबर मिलते ही पुलिस सक्रिय हो गई और आरोपित सोनू मांझी को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं उसकी पत्नी की पतासाजी की जा रही है।

साधारण मारपीट का मामला दर्ज कर पुलिस ने किया चलता

विजय साहू रात में जब इस गंभीर मामले की रिपोर्ट दर्ज कराने सिविल लाइन थाने पहुंचा, तब थाने में मौजूद एएसआइ शैलेंद्र सिंह ने आरोपित सोनू मांझी व उसकी पत्नी नीतू वसुंधरा के खिलाफ धारा 294, 506, 323, 506, 34 के तहत साधारण मारपीट का मामला दर्ज कर लिया। लेकिन, देर रात जैसे ही हमले में आहत युवक की मौत होने की खबर आई। पुलिस सक्रिय हो गई और आनन-फानन में हत्या के आरोपित सोनू को पकड़ लिया।

साथियों ने किया बीच-बचाव

इस हमले में खून से लथपथ राजा वस्त्रकार बेहोश हो गया। उसके साथ मारपीट करते देख विजय के साथ ही अंकित शुक्ला, विजय भान सिंह ने मिलकर बीच-बचाव किया। उन्होंने छुड़ाकर पति-पत्नी को अलग किया। फिर डायल 112 को कॉल किया।