बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

भाजपा की नामांकन रैली युवा सदन से कलेक्टोरेट के लिए निकली। इस दौरान पार्टी के स्थानीय नेताओं के अलावा प्रत्याशी और उनके समर्थक भी बड़ी संख्या में मौजूद थे। इस रैली का जगह-जगह जमकर स्वागत हुआ। इससे उत्साहित भाजपाई रैली में ही डटे रहे और कलेक्टोरेट शाम चार बजे पहुंचे। तब तक नामांकन दाखिल करने का समय बीत चुका था। अब उनके पास शुक्रवार का समय ही शेष है। इस बार नामांकन की प्रक्रिया जटिल करने के कारण प्रत्याशी दस्तावेज तैयार करने देर रात तक भटकते नजर आए।

भाजपा की नामांकन रैली तय परंपरा के अनुसार पुराने युवा सदन के पास से ही निकली। इस दौरान रैली में पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल,बिल्हा विधायक धरमलाल कौशिक,मस्तूरी विधायक कृष्णमूूर्ति बांधी,बेलतरा विधायक रजनीश सिंह, हर्षिता पांडेय आदि पार्टी के बड़े नेता भी मौजूद थे। पार्षदों को भी अपने वार्ड के अनुसार अलग-अलग रैली में शामिल किया गया था ताकि उनकी पहचान हो सके और कार्यकर्ताओं की ताकत दिखा सके। रैली युवा सदन से सबसे पहले गांधी चौक, गोल बाजार, सदर बाजार, देवकीनंदन चौक, तिलक नगर होते हुए कलेक्टोरेट पहुंची। इस दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं ने रैली का जमकर स्वागत किया। इस स्वागत से भाव विभोर भाजपाइयों को समय का भी ख्याल नहीं रहा। नतीजतन उनकी रैली कलेक्टोरेट चार बजे पहुंची। तब तक नामांकन दाखिल करने का अंतिम समय बीत चुका था। कलेक्टोरेट के सामने शक्ति प्रदर्शन करे प्रत्याशी और नेता लौट गए। इस रैली में बड़ी संख्या में भाजपाई नेता और कार्यकर्ता शामिल रहे। ज्यादातर भाजपाई प्रत्याशियों ने पहले ही अपना नामांकन दाखिल कर लिया था। बचे हुए कुछ नेता रैली से अलग होकर बीच-बीच में कलेक्टोरेट नामांकन दाखिल करने पहुंच रहे थे। अब जो बच गए हैं वे शुक्रवार सुबह अकेले अपना नामांकन दाखिल करेंगे। नामांकन दाखिल करने में पार्टी के नेता एक-दूसरे का सहयोग करते हुए दिखे। पार्टी ने ज्यादातर पुराने पार्षदों को ही इस बार रिपीट किया है। इस चुनाव में पार्टी के हिसाब से नया यह है कि क्षेत्र विस्तार के कारण बिल्हा,तखतपुर,मस्तूरी,बेलतरा विधानसभा का क्षेत्र भी नगर निगम में शामिल हो गया है। जिसके कारण वहां के विधायकों को भी रैली में आमंत्रित किया गया था। विधानसभावार ही उम्मीदवारों के नाम का पैनल बनाकर उनका चयन किया गया है। उल्लेखनीय है कि निर्वाचन आयोग ने नियम को ज्यादा पारदर्शी कर दिया। जिसमें उम्मीदवारों को ऑनलाइन नामांकन दाखिल करने की सुविधा दी गई है। इस प्रक्रिया में गलती की गुंजाइश बहुत कम हो गई है। ऑनलाइन नामांकन दाखिल करने के बाद उसकी प्रतिलिपि नामांकन फार्म के साथ जमा किया गया है।

ऑनलाइन नामांकन अनिवार्य नहीं

राज्य निर्वाचन कार्यालय ने इस बार नामांकन फार्म की हार्डकॉपी जमा करने के अलावा ऑनलाइन फार्म जमा करने की सुविधा भी शुरू की है। इसमें उम्मीदवार ऑनलाइन फार्म भरकर उसकी कॉपी भी निर्वाचन कार्यालय दे सकता है। ऑनलाइन फार्म भरने से गलती की गुंजाइश बहुत कम हो जाती है। इसके अलावा ऑनलाइन में गलती होने पर संशोधन का भी विकल्प है जो हार्डकॉपी जमा करने में नहीं है। राज्य निर्वाचन कार्यालय ने ऑनलाइन फार्म भरने की अतिरिक्त सुविधा तो दी है लेकिन यह अनिवार्य नहीं है। उम्मीदवार चाहे तो इस विकल्प का उपयोग कर सकता है। ऑनलाइन नामांकन जमा करने से निर्वाचन अधिकारी भी किसी बहाने से नामांकन को निरस्त नहीं कर सकते।

भाजपा की परंपरा कायम

भाजपाई विधानसभा चुनाव हो या लोकसभा हर चुनाव में युवा सदन से ही अपनी नामांकन रैली निकालते हैं। हालांकि युवा सदन अब टूट चुका है। इसके बाद भी परंपरा आज भी कायम है। गुरुवार को भी भाजपाई प्रत्याशियों की चुनावी रैली युवा सदन से ही निकली। पार्टी के सभी प्रत्याशी पुराने युवा सदन वाली जगह पर पहुंचे और वहां से उनकी नामांकन रैली निकली।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket