बिलासपुर।कानन पेंडारी जू में शाकाहारी व मांसाहारी वन्य प्राणियों केज व्यवस्थित रहेगा। भारी भरकम बजट मिलने के बाद जू प्रबंधन ने निर्माण कार्य प्रारंभ कर दिया है। केज का निर्माण केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण के मापदंड के अनुरूप तैयार किया जा रहा है। वन्य प्राणियों का व्यवस्थित केज बनने के बाद पर्यटकों को भी बेहतर लगेगा। कानन पेंडारी जू में पहले जो केज है वह मापदंड के अनुरूप नहीं थे। प्राधिकरण की टीम इस पर आपत्ति भी जता चूकी है। हालांकि उस सम स्थिति अलग थी।

अब कानन पेंडारी जू के पर्याप्त बजट मिलने लगा है। इस बार भी जू प्रबंधन ने जो प्रस्ताव बनाकर भेजा था, उसमें एक करोड़ रूपये स्वीकृत हुए है। इस बजट का खर्च केज निर्माण में ज्यादा किया जाएगा। दरअसल पुराने केज पूरी तरह जर्जर हो चुके हैं। इसके अलावा बाउंड्रीवाल भी सुरक्षित है। नए केज निर्माण के साथ सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम किया जा रहा है। इसके साथ ही सीसीटीवी में खर्च किए जाएंगे। दअरसल जू बेहद संवेदनशील होता है। इसलिए यहां जू प्रबंधन ने कैमरे तो लगवाए हैं। लेकिन बंदरों की आतंक की वजह से कैमरे और केबल दोनों क्षतिग्रस्त हो चुके हैं।

यह भी पढ़ें:एटीआर के पर्यटकों को एक और भ्रमण रूट की सौगात

प्रबंधन अब अंडरग्राउंड केबलिंग करने की योजना बना रहा है। इससे तार टूटने की घटना नहीं होगी। बंदरों को रोक पाना बेहद मुश्किल ह। अंडरग्राउंड केबल रहने से कोई दिक्कत नहीं होगी और सीसीटीवी के जरिए पल - पल की गतिविधियों पर पैनी नजर रखी जा सकती है। वर्तमान में एक या दो कैमरे ही चल रहे हैं। सुरक्षा के लिहाज से चारों तरफ कैमरे लगे होने चाहिए और सभी चलने भी चाहिए। इस बजट से पर्यटकों की सुविधा में विस्तार करने की योजना बनाई जा रही है। दरअसल यहां पहुंचने पर्यटकों को कई तरह की दिक्कते होती है। जिसमें सबसे प्रमुख पैगोाड़ा है। बारिश होने पर यहां पर्यटक भीग जाते हैं। पैगोड़ा बनने के बाद कम से कम वर्षा होने पर पर्यटक छावनी मिलेगी।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close