बिलासपुर। सहायक शिक्षकों की पदोन्न्ति के लिए वरिष्ठता की गणना नियुक्ति के बजाय स्थानांतरण की तिथि से करने के खिलाफ हाई कोर्ट में याचिका दायर की गई है। मामले में जस्टिस संजय के. अग्रवाल की सिंगल बेंच ने शासन को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। रायपुर जिले के विकासखंड आरंग निवासी गीता पदमाकर, प्रमिला वर्मा व कुसुमलता कुर्रे ने अधिवक्ता राजेंद्र कुमार पटेल के माध्यम से हाई कोर्ट में याचिका दायर की है।

इसमें कहा गया कि याचिकाकर्ताओं की नियुक्ति जनपद पंचायत धरसींवा, मैनपाट व जैजपुर में वर्ष 2005 में शिक्षाकर्मी वर्ग-तीन के पद पर हुई थी। उन्हें नियमित भी किया जा चुका है। साथ ही वर्ष 2018 में पंचायत विभाग से शिक्षा विभाग में संविलियन भी हो गया है। इस बीच गीता पदमाकर का वर्ष 2012 में धरसींवा से जनपद पंचायत आरंग, प्रमिला वर्मा का वर्ष 2009 में पलारी से जनपद पंचायत आरंग और कुसुमलता कुर्रे का वर्ष 2016 में जैजैपुर से जनपद पंचायत आरंग में स्थानांतरण कर दिया गया।

जिला शिक्षा अधिकारी रायपुर ने सहायक शिक्षक एलबी से शिक्षक एलबी पद पर पदोन्न्ति के लिए एक जनवरी को अंतरिम वरिष्ठता सूची जारी की। इसमें याचिकाकर्ती की वरिष्ठता की गणना प्रथम नियुक्ति के बजाय स्थानांतरण दिनांक से की गई। इसके खिलाफ उन्होंने याचिका दायर की है। इस पर प्रारंभिक सुनवाई करते हुए जस्टिस संजय के. अग्रवाल की सिंगल बेंच ने शिक्षा विभाग के सचिव, संभागीय संयुक्त संचालक, जिला शिक्षा अधिकारी रायपुर को नोटिस जारी किया है। साथ ही बीच कोई पदोन्न्ति होने पर याचिका के अंतिम आदेश के अधीन होगा।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local