बिलासपुर। Bilaspur News: बलरामपुर जिले के भौगोलिक क्षेत्र का एक भाग पाट का हिस्सा है जिसमें सामरी पाट, लहसुन पाट, जमीरा पाट मुख्य रूप से शामिल है। पाट क्षेत्रों की विशेष भौगोलिक तथा जलवायुवीय दशा के कारण यहां जीवन सामान्य क्षेत्रों की तुलना में थोड़ा कठिन है। शासन-प्रशासन की अंतिम व्यक्ति तक पहुंच तथा जनकल्याणकारी योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन के आकलन के लिए दुर्गम पाट पंचायतों के भ्रमण पर निकले कलेक्टर श्याम धावड़े तथा पुलिस अधीक्षक रामकृष्ण साहू लहसुनपाट तथा जोकापाट पहुंचे।

भ्रमण के दौरान उन्होंने उपस्वास्थ्य केंद्र, धान खरीदी केंद्र तथा चाय की खेती के लिए चिन्हित स्थल का अवलोकन किया एवं ग्रामीणों से बात कर आत्मीयता के साथ उनकी समस्याएं सुनी। सामाजिक सुरक्षा पेंशन के लिए शिविर आयोजित करने तथा मनरेगा के तहत रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।

विकासखंड शंकरगढ़ के ग्राम लहसुनपाट पहुंचकर कलेक्टर ने ग्रामीणों से आंगनबाड़ी में गर्मभोजन, रेडी टू ईट तथा मध्यान्ह भोजन का सूखा राशन मिलता है या नहीं इसकी जानकारी ली।

पेयजल की उपलब्धता तथा रोजगार गारंटी के अंतर्गत संचालित कार्यो के बारे में पूछा।कलेक्टर श्याम धावड़े तथा पुलिस अधीक्षक रामकृष्ण साहू ने लहसुनपाट पहुंचकर गांव की आबादी तथा मूलभूत जानकारी ली। ग्रामीणों ने उन्हें बताया कि आंगनबाड़ी में गर्म भोजन, रेडी टू ईट तथा कुपोषित बच्चों को अंडा प्रदान किया जा रहा है,लेकिन रोजगार गारंटी के अन्तर्गत वर्तमान में कोई कार्य संचालित नहीं है। कलेक्टर धावड़े ने रोजगार गारंटी के अंतर्गत दो तलाबों का निर्माण कार्य शीघ्र प्रारम्भ करने की बात कही।

वृद्धा पेंशन न मिलने की सूचना प्राप्त होने पर उन्होंने कहा कि जल्द ही शिविर आयोजित कर इसका निराकरण किया जाएगा। इसके पश्चात कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक ने जोकापाट के उपस्वास्थ्य केंद्र का निरीक्षण किया। उन्होंने महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता से बात कर प्रतिदिन ओपीडी, दवाइयों की उपलब्धता तथा संस्थागत प्रसव की जानकारी ली तथा प्रसव कक्ष का अवलोकन किया। कलेक्टर ने उपस्वास्थ्य केंद्र में संस्थागत प्रसव पर प्रसन्नता जाहिर की तथा परिसर को व्यवस्थित करने के निर्देश एसडीएम कुसमी दीपक निकुंज को दिए ।

डीएमएफ से होगी चाय की खेती

चाय बागान के लिए जोकापाट में चिन्हित 101 एकड़ भूमि का अवलोकन कर शीघ्र खेती का कार्य प्रारम्भ करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि चाय की खेती प्रारम्भ होने से स्थानीय लोगों को रोजगार तथा क्षेत्रीय जलवायु का आर्थिक लाभ मिल पाएगा। जोकापाट की जलवायु चाय की खेती के लिए अनुकूल है तथा इस दिशा में कलेक्टर श्याम धावड़े द्वारा पहल करते हुए खनिज न्यास निधि मद से चाय की खेती का कार्य प्रारम्भ किया जा रहा है।

धान खरीदी केंद्र का निरीक्षण

कलेक्टर ने धान खरीदी केंद्र जोकापाट का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया तथा धान विक्रय करने आये कृषकों से बात भी की। कलेक्टर ने समिति प्रबंधक से चर्चा करते हुए अब तक खरीदे गए धान की मात्रा के बारे में जानकारी ली और कहा कि गुणवत्ता मानकों के अनुरूप धान खरीदी करें तथा बिचौलियों व कोचिये का धान न खरीदा जाए। उन्होंने कृषकों से बात करते हुए पूछा कि उन्हें धान भुगतान समय पर हो रहा है या नहीं तथा समितिकर्मियों द्वारा कृषकों को सहयोग के सम्बंध में जानकारी ली।

Posted By: sandeep.yadav

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस