बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। न्यायधानी में दो दिनों से मौसम बिगड़ा हुआ है। शुक्रवार सुबह से आसमान में बादल छाया है। मौसम विभाग की मानें तो आज दिनभर आसमान में बादल मंडराएंगे। अचानक वर्षा की संभावना बनी हुई है। शाम के बाद धीरे-धीरे मौसम में परिवर्तन दिखाई देगी। एक अक्टूबर से आसमान खुलने की संभावना है।

मौसम वेधशाला के विज्ञानी डा.एचपी चंद्रा के मुताबिक एक ऊपरी हवा का चक्रीय चक्रवाती घेरा पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी-तटीय आंध्र प्रदेश के ऊपर स्थित है और यह 1.5 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है। प्रदेश में 30 सितंबर को कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने या गरज-चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है। एक-दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ वज्रपात होने की भी संभावना है। वहीं मानसून के कमजोर पड़ने की संभावना भी है। इसके कारण परिस्थितियां बदल सकती हैं। मौसम विज्ञानी सिराज खान की मानें तो मानसून द्रोणिका अभी प्रदेश में सक्रिय है। राजस्थान में मानसून की विदाई का क्षेत्र आगे बढ़ने के लिए भी परिस्थितियां अनुकूल बनी हुई हैं। इस बीच थोड़ी राहत की बात यह है कि शुक्रवार से मौसम के व्यवहार में बदलाव दिखाई दे सकता है। एक अक्टूबर तक परिस्थितियां सामान्य होने की संभावना है। सूर्य के दर्शन होंगे। बता दें कि गुरुवार को बिलासपुर का अधिकतम तापमान 31.4 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया था। जबकि न्यूनतम तापमान 23.8 डिग्री था। इसके पहले पारा लगभग 25 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।

स्र्क-स्र्ककर वर्षा

मानसून द्रोणिका के असर से पिछले दो दिनों से मौसम बिगड़ा हुआ है। बुधवार शाम से शुरू हुई वर्षा थमने का नाम नहीं ले रहा है। गुरुवार सुबह आसमान में मेघमय बने रहे, लेकिन दोपहर से अचानक आसमान में काले बादल घिर आए। रुक-रुककर हल्की वर्षा होती रही। दोपहर दो से तीन बजे के बीच आकाश्ाीय बिजली चमकने और तेज-गर्जना से आमजन सकते में आ गए। शाम को एक बार फिर बादलों के झुंड ने तेज वर्षा कर शहर के कई इलाकों को जलमग्न कर दिया। देर रात में रिमिझम फुहारें चली। आज भी हल्की वर्षा संभावित है।

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close