बिलासपुर। Bilaspur News: छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग की सहायक प्राध्यापक की परीक्षा एक बार फिर विवादों में पड़ने लगी है। आदर्श उत्तरपुस्तिका जारी करने के बाद प्रतियोगी इसकी खामी ढूंढने में लगे हैं। वहीं प्रतियोगियों ने दावा-आपत्ति के लिए प्रतिप्रश्न 50 रुपये वसूलने पर सवाल उठाया है।

छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग द्वारा बीते पांच व आठ नवंबर को सहायक प्राध्यापक (उच्च शिक्षा विभाग) के रिक्त पदों के लिए परीक्षा आयोजित की गई थी। इसके तहत विधि संकाय में सहायक प्राध्यापक पद के लिए प्रतियोगियों ने परीक्षा दी है। बीते 19 नवंबर को आयोग ने आदर्श उत्तरपुस्तिका जारी की है। इसके साथ ही संबंधित विषय के प्रतियोगी सवालों के उत्तर को लेकर अपनी तैयारी शुरू कर दी है।

इस बीच विधि विषय के प्रतियोगियों ने जारी आदर्श उत्तरपुस्तिका को लेकर सवाल उठाया है। उनका दावा है कि सौ प्रश्नों में से आदर्श उत्तरपुस्तिका में करीब 40 सवालों के उत्तर गलत हैं। इसे देखकर प्रतियोगी अब सही उत्तर की जानकारी एकत्रित कर रहे हैं। ताकि आयोग के समक्ष दावा आपत्ति प्रस्तुत कर सकें। आयोग ने दावा-आपत्ति के लिए 23 नवंबर से 29 नवंबर तक का समय दिया है।

वहीं आयोग ने दावा आपत्ति के लिए प्रति प्रश्न 50 रुपये व छह रुपये पोर्टल चार्ज तय किया है। ऐसे में गलत सवालों पर दावा-आपत्ति करने पर प्रतियोगियों को आवेदन शुल्क से अधिक रकम खर्च करने पड़ेंगे। प्रतियोगियों ने आयोग की आदर्श उत्तरपुस्तिका को लेकर सवाल उठाते हुए आपत्ति के लिए फीस वसूली को भी गलत ठहराया है। उनका कहना है कि उनके रिफरेंस में पढ़ी गई बेयर एक्ट व किताबों के अनुसार 40 से 50 सवालों के उत्तर गलत हैं।

ऐसे में उन्हें आपत्ति करने पर उन्हें बेवजह आर्थिक नुकसान उठाना पड़ेगा। कोरोना काल व मंदी के इस दौर में प्रतियोगी छात्र अब आयोग की आदर्श उत्तरपुस्तिका को लेकर फिर से कोर्ट की शरण में जाने की तैयारी कर रहे हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस