बिलासपुर। छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय अधिवक्ता संघ के चुनाव में मतदाताओं ने सीके केशरवानी को चौथी बार अध्यक्ष चुना है। वहीं, कई वर्षों से सचिव का दायित्व निभा रहे अब्दुल वहाब खान को नकारते हुए राकेश मोहन पांडेय को सचिव की जिम्मेदारी दी है।छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय अधिवक्ता संघ के चुनाव को लेकर शहर में खासी गहमागहमी रही।

मतदाता सूची को लेकर विवाद के बीच मतदान

उल्‍लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय अधिवक्ता संघ का दो वर्ष का कार्यकाल पूरा होने के बाद नए चुनाव की घोषणा की गई थी। इन चुनावों को पिछले कुछ समय से चर्चाओं और अटकलों का दौर भी चल रहा था।

छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय अधिवक्ता संघ चुनाव के लिए मतदाता सूची को लेकर विवाद के बीच सोमवार की सुबह 10 बजे से मतदान हुआ। इस दौरान 636 मतदाताओं ने मतदान किया। मंगलवार की सुबह 10 बजे निचले क्रम से मतगणना शुरू की गई। मतदाता सूची में विवाद पर कुछ समय के लिए गहमागहमी भी रही।

कार्यकारिणी सदस्यों के मतपत्र की गिनती सबसे पहले

मिली जानकारी के अनुसार इसमें कार्यकारिणी सदस्यों के मतपत्र की गिनती सबसे पहले पूरी की गई। अंत में अध्यक्ष पद के वोटों की गिनती की गई।

ग्रंथालय सचिव अरविंद दुबे और उपाध्यक्ष उमाकांत चंदेल बने

मताें की गणना के बाद निर्वाचन अधिकारी ने पूर्व अध्यक्ष सीके केशरवानी को अध्यक्ष निर्वाचित घोषित किया। इसी प्रकार राकेश मोहन पांडेय सचिव, ग्रंथालय सचिव अरविंद दुबे, उपाध्यक्ष उमाकांत चंदेल, सह सचिव अस्र्णेन्द्र मिश्रा निर्वाचित हुए। विवेक सिंघल, अच्युत तिवारी, अभिषेक पांडेय, अशुतोष शुक्ला, जितेन्द्र गुप्ता, अजय चंद्रा व चंद्रप्रकाश लहरे कार्यकारिणी सदस्य निर्वाचित हुए हैं। जीत के बाद विजयी पदाधिकारियों को अन्‍य सदस्‍यों ने बधाई दी।

Posted By: Hemant Upadhyay