बिलासपुर। यूजीसी नेट आवेदन जमा करने से वंचित छात्र छात्राओं को आयोग ने एक बार फिर मौका दिया है। आवेदन व फीस जमा करने की अंतिम तिथि 30 मई तक घोषित किया है। बता दें कि छत्तीसगढ़ के छात्रों ने आयोग को ट्वीट कर आवेदन की तिथि बढ़ाने मांग किया था। यूजीसी नेट दिसंबर 2021 और जून 2022 के लिए आवेदन फार्म जमा करने एवं फीस भरने के लिए 20 मई तक समय-सीमा निर्धारित किया था। यूजीसी के वेबसाइट में तकनीक समस्या होने के कारण हजारों विद्यार्थियों परीक्षा फार्म से वंचित हो गए थें। फिर ट्वीटर के माध्यम से हजारों विद्यार्थियों ने युजीसी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया, हजारों विद्यार्थियों की मांग को देखते हुए युजीसी के अध्यक्ष ने अपने अधिकारीक ट्विटर अकाउंट के जरिए यह जानकारी दिया कि कैंडिडेट्स की मांग पर तारीख मे बदलाव किया हैं ।

गुरू घासीदास केन्द्रीय विश्वविद्यालय बिलासपुर के पुर्व छात्र परिषद् अध्यक्ष नितेश साहू ने कहा कि हजारों विद्यार्थी परीक्षा से वंचित हो रहे थे । जो आवदेन पत्र की समय -सीमा में वृद्धि के लिए आवाज उठाने के लिए संपर्क कर रहे थे। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (युजीसी) के चेयरमैन प्रो. एम. जगदीश कुमार का आभार जिन्होंने विद्यार्थियों की आवाज को सुनते हुए , छात्र हित मे स्वागतयोग्य निर्णय लिया। इसके बाद अब वंचित विद्यार्थियों ने राहत की सांस ली है। बता दें कि सिर्फ बिलासपुर से डेढ़ सौ से अधिक विद्यार्थी आवेदन जमा करने से वंचित रह गए थे।

यूजीसी नेट परीक्षा क्या है?

एनटीए साल में दो बार एनटीए यूजीसी नेट परीक्षा आयोजित करती है। जिसमें 82 विषयों की सूची से उम्मीदवार पसंद का वह विषय चुन सकते हैं जिसमें स्नातकोत्तर किया हो। यूजीसी नेट 2022 परीक्षा जूनियर रिसर्च फेलो (जेआरएफ) / सहायक प्रोफेसर या व्याख्याता के लिए पात्रता निर्धारित करने के लिए आयोजित की जाती है। यूजीसी नेट परिणाम 2022 को उत्तीर्ण करने वाले उम्मीदवारों को यूजीसी नेट पात्रता प्रमाण पत्र प्रदान किया जाएगा। लेक्चरशिप के लिए सर्टिफिकेट की वैलिडिटी लाइफटाइम होती है जबकि फेलोशिप सर्टिफिकेट की वैलिडिटी 3 साल के लिए होती है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close