बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

हाई कोर्ट ने बार-बार निर्देश देने के बावजूद बिलासपुर-रायपुर फोर और सिक्स लेन सड़क का निर्माण तय समय में नहीं होने को गंभीरता से लिया है। मामले में पुंज लॉयड के सीईओ को जवाब देने 20 अगस्त को व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होने का आदेश दिया है।

रायपुर से बिलासपुर तक 130 किलोमीटर फोर व सिक्स लेन सड़क का निर्माण किया जा रहा है। धीमी गति से लोगों को होने वाली परेशानी को देखते हुए दुर्ग निवासी रजत तिवारी ने 2016 में हाई कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की थी। कोर्ट ने एनएचएआइ, केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय, राज्य शासन, निर्माण कंपनी समेत सभी पक्षकारों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा था। 15 जुलाई 2019 की सुनवाई के दौरान कोर्ट को बताया गया कि पुंज लॉयड का लगभग पांच किलोमीटर का कार्य शेष है। वहीं एल एंड टी कंपनी को डेढ़ किलोमीटर सड़क बनानी है। दोनों कंपनियों ने 31 जुलाई तक काम पूरा करने की बात कही थी। इस पर कोर्ट ने कहा कि उम्मीद है कि छत्तीसगढ़ की जनता के लिए 15 अगस्त की सुबह से रायपुर-बिलासपुर मार्ग की सुविधा मिलने लगेगी। इसके साथ मामले को सुनवाई के लिए 14 अगस्त को रखने का आदेश दिया। बुधवार को सुनवाई के दौरान एनएचएआइ की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता व पूर्व महाधिवक्ता जेके गिल्डा ने जवाब प्रस्तुत कर कहा कि एल एंड टी की ओर से काम पूरा कर लिया गया है। वहीं पुंज लॉयड को अभी लगभग 400 मीटर सड़क व एक पुल का निर्माण करना है। कार्य पूरा करने के लिए पुंज लॉयड को एनएचएआइ की ओर से 10 करोड़ का भुगतान किया गया है। हाई कोर्ट ने पुंज लॉयड की ओर से कार्य पूरा नहीं किए जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि निर्माण कंपनी कोर्ट के निर्देश को इजी वे में ले रही है। कोर्ट ने पुंज लॉयड के सीईओ अश्वीन मेहरा को जवाब देने के लिए 20 अगस्त को व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होने का आदेश दिया है।

40 से 360 करोड़ हो गया मुआवजा, शासन ने दिया जवाब

राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण में 40 करोड़ रुपये का मुआवजा 360 करोड़ रुपये कैसे हो गया, इस पर कोर्ट ने शासन ने जवाब मांगा था। शासन की ओर से मुआवजा राशि कैसे बढ़ी इस पर विस्तार से जवाब पेश किया गया है। इस जवाब पर प्रतिउत्तर पेश करने एनएचएआइ ने कोर्ट से समय लिया है।

इनको दिया गया है काम

00 रायपुर से सिमगा तक 48.580 किलोमीटर सड़क के निर्माण के लिए 11 जनवरी 2016 को पुंज लॉयड से अनुबंध हुआ था। कंपनी को 20 अप्रैल 2018 तक काम पूरा करना था।

00 सिमगा से सरगांव तक 42.446 किलोमीटर सड़क के निर्माण के लिए पांच मई 2016 को एल एंड टी कंपनी से अनुबंध किया गया। कंपनी को चार मई 2018 तक कार्य पूरा करना था।

00 सरगांव से बिलासपुर तक 35.499 किलोमीटर सड़क निर्माण का काम दिलीप बिल्डकॉन को दिया गया। दिलीप बिल्डॉन ने तय सीमा में निर्माण पूरा किया है।