बिलासपुर । सीएमडी पीजी कालेज शासी निकाय के अध्यक्ष पंडित संजय दुबे ने कहा कि संभाग में उच्च शिक्षा को एक नया आयाम देने और ऊंचाइयों पर पहुंचाने पंडित द्वाारिका प्रसाद दुबे का योगदान अतुलनीय है। जिसे कभी भुलाया नहीं जा सका। एक समाज सेवक के रूप में कालेज की स्थापना कर युवाओं को करियर निर्माण के मार्ग में प्रशस्त किया।

गुरुवार को संस्थापक पं.द्वारिका प्रसाद की स्मृति में 65वां संस्थापक दिवस मनाया गया। शासी निकाय के अध्यक्ष पं.संजय ने इस अवसर पर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए आगे कहा कि वर्ष 1956 में इस महाविद्यालय की स्थापना की गई। पं.द्वारिका के बताए मार्ग पर चलने का परिणाम यह हुआ कि संस्था को संभाग में नैक से ए ग्रेड का दर्जा हासिल है। शोध और नवाचार में शिक्षक नित नए प्रयोग कर रहे हैं। इस अवसर पर वरिष्ठ सदस्य पं.नारायण प्रसाद दुबे, सदस्य एसपी चतुर्वेदी, महेश दुबे,विमल त्रिपाठी, श्याम शुक्ला, नितिन त्रिपाठी,क्रांति कुमार ओझा, विकास दुबे, अमन दुबे, एनके वर्मा, अंशुमन दुबे, आदित्यांश दुबे, प्राचार्य डा.संजय सिंह,डा.पीएल चंद्राकर तथा डा.कमलेश जैन ने भी संबोधित किया।

सीएमडी एक परिवार हैः राजकुमार

शिक्षा विभाग के प्रमुख राजकुमार पंडा ने इस अवसर पर कहा कि सीएमडी कालेज सिर्फ पढ़ाई का केंद्र बिंदु नहीं बल्कि एक परिवार भी है। पं.द्वारिका दुबे के योगदान को समाज में हमेशा याद किया जाता है। हमारा कर्तव्य है कि इस संस्था की गरिमा को हमेशा बनाएं रखें। इस मौके पर रजिस्ट्रार कौशल गुप्ता, केएस राजपूत, डा.व्हीके गुप्ता,डा.विनीत नायर,डा.वीणापाणी दुबे आदि उपस्थित थे। इस दौरान नवनिर्मित बायोटेक्नोलाजी विभाग का लोकार्पण भी किया गया। सुमेला चटर्जी के निर्देशन में छात्र-छात्राओं ने सुमधुर भजनों का गायन किया।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस