बिलासपुर। मौसम का मिजाज बदलते ही हरी साग सब्जियों पर खतरा मंडराने लगा है। बदली के कारण धनिया व टमाटर की फसल खराब होने का डर है। बदली आते ही मंगलवार की सुबह थोक बाजार में टमाटर का भाव स्थिर हो गया। एक सप्ताह से हर दिन 50 से 100 रुपये की वृद्धि हो रही थी लेकिन आज 25 किलो टमाटर का भाव सोमवार की तरह स्थिर रहा। चिल्हर बाजार में भाव 50 रुपये ही बिकेगा।

बदले मौसम और बूंदाबांदी के चलते रबी सीजन के दौरान लगाई गई अरहर और धनिया टमाटर को लेकर किसानों ने चिंता जाहिर की है। आसमान पर बादल छाए रहने से फसलों में कीट प्रकोप बढ़ने का खतरा है। अरहर फसल फूलों से लदा हुआ है और फल भी लगने वाला है। वहीं कहीं-कहीं फल भी लग चुका है। इसी तरह टमाटर में फल लग चुका है। बदली-बारिश से टमाटर पर काला दाग लग सकता है। मौसम में अधिक खराब हुआ तो किसानों की मेहनत पर पानी फिर जाएगा।

हालांकि इससे बचने के लिए किसान कीटनाशक दवाइयों का छिड़काव भी कर रहे हैं, लेकिन बारिश और बादल छाए रहने के कारण कीटनाशक का असर कम होता है। एक-दो दिन में मौसम साफ नहीं हुआ और इसी तरह की स्थिति बनी रही तो टमाटर और गोभी के फसलों को सबसे बड़ा नुकसान होगा। इसी का परिणाम है कि तिफरा थोक मंडी में आज सुबह 25 किलो टमाटर का भाव 1050 रुपये ही बिका।

बृहस्पति, शनिचरी, गोल बाजार और रेलवे बुधवारी बाजार में अभी बैंगन, लाल भाजी, पालक और मेथी समेत बरबट्टी, बींस, भिंडी, मिर्च, अदरक, प्याज, करेला, परवल, धनिया व मटर का भाव भी 40 रुपये से उपर पहुंच गया है। आलू 22 से 25 और प्याज 25 से 30 रुपये किलो है। जबकि मटर, खीरा, पालक और लाल भाजी का रेट 50 रुपये पहुंच गया है।

Posted By: sandeep.yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local