बिलासपुर।Corona News: जोनल स्टेशन में स्वास्थ्य विभाग की टीम उन सभी यात्रियों की जांच करेगी जिनके पास 72 घंटे की जांच रिपोर्ट नहीं है। यह व्यवस्था कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए लागू कर दी गई है। पहले महाराष्ट्र, राजस्थान, पंजाब व मध्य प्रदेश समेत जिन राज्यों को संवेदनशील घोषित किया गया था उन्हीं क्षेत्रों से पहुंचने वाले यात्रियों की स्टेशन में जांच की जा रही थी।

जोनल स्टेशन में स्वास्थ्य विभाग की एक टीम तैनात है। मार्च महीने के शुरुआत में जब स्वास्थ्य कर्मियों की ड्यूटी लगाई गई तब केवल उन्हें थर्मल स्क्रीनिंग करने के निर्देश थे। उस समय स्थिति सामान्य थी और कोरोना की दूसरी लहर की शुरुआत हुई थी। संक्रमण बढ़ने पर 16 मार्च से एंटीजन और आरटीपीसीआर जांच की शुरुआत कर दी गई। हालांकि जांच के दायरे में वही यात्री आते थे, जो संवेदनशील राज्यों से सफर कर रहे थे। इस दौरान प्रतिदिन दो-तीन ही संक्रमित मिल रहे थे।

अब स्थिति अनियंत्रित हो गई है। इसे देखते हुए ही सभी के लिए जांच अनिवार्य कर दिया गया है। इसके लिए आरपीएफ, जीआरपी के अलावा स्वास्थ्यकर्मी सभी यात्रियों को जांच कराने के लिए कह रहे हैं। हालांकि जिनके पास 72 घंटे की जांच रिपोर्ट और वह निगेटिव है उन्हें बिना जांच के बाहर निकलने की अनुमति दी जा रही है, पर यह रिपोर्ट नहीं है वह सभी जांच की जद में आ रहे हैं। इनमें दुर्ग, रायपुर, भिलाई के यात्री भी शामिल हैं। ऐसा इसलिए हो रहा है ताकि संक्रमित यात्रियों की पहचान स्टेशन में ही हो जाए और शहर के दूसरे लोग उनके संपर्क में न आ सकें।

संक्रमित मिलने पर होम आइसोलेट या अस्पताल में भर्ती

रेलवे स्टेशन में जांच के दौरान संक्रमित मिलने वाले यात्रियों को तत्काल भीड़ से अलग कर दिया जाता है। इस दौरान उन्हें होम आइसोलेट व अस्पताल में भर्ती दोनों विकल्प दिया जाता है। इसमें से कौन सा विकल्प चुनता है या यात्री पर छोड़ दिया जाता है। यह व्यवस्था केवल एंटीजन जांच के यात्रियों के लिए है। आरटीपीसीआर जांच वाले को तो जब तक रिपोर्ट नहीं आती है होम आइसोलेट पर रहने के निर्देश दिए जा रहे हैं।

अब तक 83 से अधिक मिल चुके हैं संक्रमित

जोनल स्टेशन में स्वास्थ्य विभाग की जांच के दौरान 16 मार्च से लेकर अब 83 से अधिक यात्री संक्रमित मिल चुके हैं। यह आंकड़ा केवल एंटीजन जांच का है। आरटीपीसीआर से जांच होने वाले यात्रियों की रिपोट सीधे उनके मोबाइल पर मैसेज के जरिए भेजा जा रहा है।

इन्होंने कहा

अब जोनल स्टेशन में उन सभी यात्रियों की जांच की जा रही है जिनके पास 72 घंटे की रिपोर्ट नहीं है। इसके चलते ही अब प्रतिदिन 10 से 11 यात्री संक्रमित मिल रहे हैं। पहले दो-चार यात्री ही संक्रमित मिल रहे थे।

डा. मनीष सिंह

जोनल स्टेशन जांच प्रभारी, स्वास्थ्य विभाग बिलासपुर

Posted By: anil.kurrey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags