बिलासपुर।Corona News: भारत सरकार की ओर से गठित टीम ने जिले का भ्रमण कर स्वास्थ्य सुविधाओं का जायजा लिया। फिर जिले के अधिकारियों की बैठक लेकर उन्हें जरूरी सुझाव दिए। साथ ही सांसद अरुण साव से भी उनके निवास पर मुलाकात कर चर्चा की गई। टीम ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जिले में कोविड डेडिकेटेड बेड बढ़ाने, दो आरटीपीसीआर मशीन स्थापित करने और आक्सीजन प्लांट की क्षमता बढ़ाने की आवश्यकता बताई है।

भारत सरकार ने राज्य में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण और मौत के आंकड़ों को देखते हुए 11 टीमें राज्य के विभिन्न् जिलों में भेजी है। इन टीमों द्वारा विभिन्न् जिलों में जाकर व्यवस्थाओं का आकलन करते हुए आवश्यक सुझाव व मदद संबंधित जिले के अधिकारियों को दी जा रही है। उन्हीं में से एक टीम भारत सरकार में संयुक्त सचिव जिगमेत तपका के नेतृत्व में जिले में पहुंची थी। उन्होंने यहां सिम्स व अन्य स्थानों का निरीक्षण कर अधिकारियों के साथ बैठक की।

इस टीम ने सांसद अरुण साव से भी मुलाकात कर विस्तृत चर्चा की। चर्चा के दौरान यह बात सामने आई कि एकमात्र लैब में बिलासपुर, मुंगेली, गौरेला-पेंड्रा-मरवाही और जांजगीर-चांपा जिले की कोविड जांच की जा रही है। इससे जांच में समय लग रहा है। इसलिए दो और आरटीपीसीआर मशीन लगाई जानी चाहिए। साथ ही सिम्स में आक्सीजन प्लांट की क्षमता बढ़ाकर जनरेटर भी लगाया जाना चाहिए।

जिला अस्पताल के आक्सीजन प्लांट में जनरेटर की व्यवस्था के साथ सिम्स और जिला अस्पताल में कोविड डेडिकेटेड बेड बढ़ाया जाना चाहिए, ताकि तेज गति से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को प्रभावी ढंग से रोका जा सके। इस टीम में रीजनल डायरेक्टर डा. केएम कांबले, डा. रवि कुमार मीणा, डा. आरआर पती शामिल थे।

Posted By: anil.kurrey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags