बिलासपुर। Coronavirus Bilaspur News : छत्तीसगढ़ के बिलासपुर स्थित अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय के माइक्रोबायलॉजी एवं जैव सूचना विज्ञान विभाग के प्रो. डीएसवीजीके कलाधर ने अपने रिसर्च में दावा किया है कि हल्दी पाउडर और तुलसी की पत्ती में पाए जाने वाले तत्वों में कोरोना को नियंत्रित करने की कारगर क्षमता है। इससे कोरोनारोधी टीका बनाने में मदद मिलेगी।

उनके इस शोध को इंटरनेशनल जर्नल ऑफ एडवांस्ड रिसर्च ने प्रकाशित किया है। प्रो. कलाधर बताते हैं कि उन्होंने कोविड-19 के 30 जिनोम पर अध्ययन के बाद पाया है कि नैचुरल मेडिसिन जैसे कुरकुमिन (हल्दी) एवं तुलसी का पत्ता कोरोना संक्रमण से लड़ने में काफी हद तक प्रभावशाली है। निंबिन (नीम), हेप्टोकॉसीनाल (गिलोय), कुरोसिन (आंवला) में भी ऐसे तत्व हैं जिससे मदद मिली है।

ए ग्रुप वालों को अधिक प्रभावित करता है कोरोना संक्रमण : कोविड-19 का संक्रमण ए-ब्लड ग्रुप के लोगों को अधिक व अन्य ग्रुप को कम संक्रमित करता है। इसलिए भविष्य में इसके बढ़ते खतरे को देखते हुए औषधीय पौधों से टीके विकसित करने का प्रयास भी जारी है।

महामारी की रफ्तार होगी कम : डॉ. कलाधर ने कहा कि ताजा परिणामों से यह स्पष्ट हुआ है कि हल्दी पाउडर, चाय, सूरज की रोशनी प्राकृृतिक तरीके से कोविड-19 का इलाज करने में भी सक्षम है। रिसर्च में यह भी कहा है कि वायरस एरोसोल में और समूहों पर कणों के रूप में छोटी दूरी पर चलने के लिए कई घंटे स्थिर रह सकता है। बुजुर्गों के लिए यह सबसे ज्यादा खतरनाक है। यह श्वास, मधुमेह और उच्च रक्त चाप जैसी समस्या वालों को अधिक तेजी से घेरता है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना