बिलासपुर। कोर्ट परिसर से भागने की कोशिश करने पर पुलिस ने बंगलादेशी नागरिक के खिलाफ जुर्म दर्ज किया है। आरोपित को पुलिस ने मंगलवार की शाम ही जेल में दाखिल कर दिया है। मंगलवार को जेल से बंदियों को न्यायालय में पेशी के लिए भेजा गया था।

इसमें बांग्लादेशी नागरिक इमरान शेख (20) भी शामिल था। चोरी और फारनर्स एक्ट के मामले में उसकी पेशी थी। पेशी के बाद पुलिसकर्मी उसे लेकर न्यायालय के बंदी बैरक की ओर आ रहे थे। इसी बीच वह पुलिस को चकमा देकर भागने की कोशिश करने लगा। बंदी को भागते देख पुलिसकर्मी भी उसके पीछे लग गए। वहीं, एक वकील ने भाग रहे बंगलादेशी नागरिक इमरान को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया।

इस दौरान गिरने से वह आहत हो गया था। उपचार के बाद उसे जेल भेज दिया गया। मामले में पुलिस लाइन के एएसआइ दिलीप कुमार बैरहा ने इसकी शिकायत सिविल लाइन थाने में की है। इस पर पुलिस ने आरोपित के खिलाफ 224 के तहत जुर्म दर्ज कर लिया है।

बिना वीजा आए थे देश में, चोरी के मामले में पकड़ाए

आरोपित इमरान अपने साथियों के साथ बिना वीजा के भारत आया था। उसके साथ महिलाएं और बच्चे भी थे। उन्होंने गुजरात में दो साल तक मजदूरी की। इसके बाद मार्च में वे पश्चिम बंगाल के रास्ते वापस बांगलादेश लौट रहे थे। आरपीएफ ने उन्हें चोरी के मामले में पकड़कर जीआरपी के हवाले कर दिया। इसके बाद से वह अपने साथियों के साथ जेल में बंद है। इसकी जानकारी गृह मंत्रालय और विदेश मंत्रालय को भी दे दी गई है। वहीं, उनका मामला न्यायालय में भी चल रहा है।

Posted By: sandeep.yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local