Cyber Crime In Bilaspur: बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। अनजान नंबर से मोबाइल पर आए लिंक को खोलकर निगम के इंजीनियर ने बैंक की गोपनीय जानकारी डाल दी। साथ ही मोबाइल पर आए ओटीपी को भी बता दिया। इसके बाद जालसाजों ने इंजीनियर के खाते से एक लाख 26 हजार स्र्पये पार कर दिए। इंजीनियर ने इसकी शिकायत सिविल लाइन थाने में की है। इस पर पुलिस जुर्म दर्ज कर मामले की जांच कर रही है।

टिकरापारा में रहने वाले सुब्रत कर नगर निगम में इंजीनियर हैं। एक सप्ताह पहले वे अपने कार्यालय विकास भवन में थे। इसी दौरान उनके मोबाइल पर अनजान नंबर से मैसेज आया। इसमें उनके एटीएम कार्ड अपडेट नहीं होने की बात लिखी थी। इसे अपडेट करने के लिए मैसेज में एक लिंक दिया गया था। इंजीनियर ने अनजान नंबर से आए लिंक को खोलकर अपने बैंक की गोपनीय जानकारी दी। इसके बाद उनके मोबाइल पर आए ओटीपी की जानकारी मांगी गई। इंजीनियर ने इसे भी लिंक में डाल दिया। ओटीपी मिलते ही एक लाख एक हजार 178 स्र्पये उनके खाते से पार हो गए। इसके बाद प्रक्रिया पूरी नहीं होने की जानकारी देते हुए दूसरा लिंक भेजा गया। इसमें भी उनसे ओटीपी मांगा गया।

दूसरी बार ओटीपी डालने पर उनके खाते से 24 हजार 999 स्र्पये पार हो गए। दूसरी बार खाते से रकम पार होने पर उनके मोबाइल पर बैंक से एसएमएस आया। खाते से स्र्पये निकलने की जानकारी होते ही उन्होंने बैंक जाकर संपर्क किया। साथ ही अपने एकाउंट को लाक करने कहा। बैंक की ओर से उनके एकाउंट को लाक किया गया। इस बीच उन्होंने मामले की जानकारी एंटी क्राइम एंड साइबर यूनिट को भी दी। इंजीनियर ने मामले की शिकायत सिविल लाइन थाने में की है। बैंक से डिटेल मिलने के बाद सिविल लाइन पुलिस ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close