बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। बिलासपुर के स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों में गुणवत्ताहीन फर्नीचर की सप्लाई की गई है। मामले को गंभीरता से लेते हुए जिला शिक्षा अधिकारी डीके कौशिक ने जांच के आदेश दिए है। बता दें कि आत्मानंद स्कूलों में फर्नीचर, कुर्सी, आलमारी के अलावा अन्य जो सामाग्री क्रय की गई है वो गुणवत्ताहीन है। बिलासपुर जिले में 12 अंग्रेजी माध्यम स्कूल खोले गए हैं। सबसे पहले शहर के लाजपत राय स्कूल, शेख गफ्फार और मंगला स्कूल में अंग्रेजी माध्यम स्कूल का संचालन किया गया। इसके बाद कोटा, चकरभाठा, तखतपुर और मस्तुरी में भी स्कूल शुरू किया। 25 नवंबर को कोटा, तखतपुर, शेख गफ्फार स्कूल, लाल लाजपत राय, मंगला चकरभाठा सहित अन्य स्कूल के प्राचार्यों ने जिला शिक्षा अधिकारी शिकायत करते हुए कहा कि फर्म द्वारा स्कूलों में सामान सप्लाई करने की सूची दी गई है। जिसमें कई सामान स्कूल में आया ही नहीं है। आत्मानंद स्कूलों में सामान सप्लाई कितने करोड़ की हुई है। इसकी जानकारी देने के लिए अधिकारी पीछे हट रहें हैं। इस मामले मे डीईओ और आत्मानंद स्कूल के प्रभारी से जानकारी मांगी है।

आत्मानंद स्कूलों में क्रय किए गए सामानों की गुणवत्ता पर उंगलियां उठाई जाती रहीं हैं। साल भर पहले खुले स्कूलों की सामान जर्जर हो गया। इसके बावजूद प्रशासन इस ओर ध्यान नहीं दिया। सामानों की गुणवत्ता नहीं है सब टूटने लगा है। जिसकी जांच होनी चाहिए। सामानों के बिल में भारी अंतर है। प्राचार्यों ने कहा कि सामान सप्लाई करने वाले कई फर्मों के बिल का भुगतान नहीं किया गया है। प्राचार्यों ने कहा कि आत्मानंद स्कूलों में सप्लाई किए गए सभी समानों की गुणवत्ता की जांच करने की मांग की है। डीईओ दिनेश कौशिक ने प्राचार्यों से कहा कि स्कूल में क्या-क्या सामान सप्लाई की गई है। उसकी सूची बनाकर बाउचर के साथ लिखित में जानकारी मंगाई जाएगी।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close