बिलासपुर। शराब पीकर स्कूल आने वाले शिक्षक विरेंद्र करवार को डीईओ डीके कौशिक ने निलंबित कर दिया है। ग्राम नगोई में बीते आठ अप्रैल को आयोजित जन समस्या निवरण शिविर में ग्रामीणों ने मामले की शिकायत की थी। मामले की बिल्हा बीईओ ने जांच की। उनकी रिपोर्ट के बाद स्कूल शिक्षा विभाग ने कार्रवाई की है। शिक्षक विरेंद्र करवार कोटा ब्लाक के लमरीडबरी प्राथमिक स्कूल में पदस्थ थे। वे आए दिन शराब के नशे में स्कूल आते थे। बच्चों के साथ दुर्व्यवहार करते थे।

स्कूल प्रबंधन के समझाने के बावजूद विरेंद्र नशे में स्कूल पहुंच जाते थे। बीते आठ अप्रैल को ग्राम नगोई में समस्या निवारण शिविर आयोजित किया गया। ग्रामीणों ने शिक्षक विरेंद्र की शिकायत की। ग्रामीणों ने अपनी शिकायत में बताया था कि शिक्षक विरेंद्र शराब पीकर स्कूल आते हैं। इसके अलावा बिना सूचना स्कूल से अनुपस्थित भी रहते हैं। कोट बीईओ ने इस मामले की जांच की। शिक्षक को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया। लेकिन अपने बचाव के लिए उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। बीईओ की रिपोर्ट के आधार पर डीईओ डीके कौशिक ने शिक्षक विरेंद्र को निलंबित कर दिया है। इसके साथ विरेंद्र को बीईओ कार्यालय कोटा में संलग्न कर दिया गया है।

इस कार्रवाई से स्कूल के छात्र-छात्राएं भी खुश हैं। शराबी शिक्षक के बर्ताव से बच्चे डरे रहते थे। स्कूल का वातावरण भी खराब हो गया था। नशे की हालत में शिक्षक बच्चों को पढ़ाते नहीं थे। बच्चों ने इसकी शिकायत अपने पालकों से की थी। पालकों ने हिम्मत जुटाकर शासन की ओर से आयोजित समस्या निवारण शिविर में शिकायत की। इस मामले की एक माह तक जांच चली। इसके बाद बीईओ ने जांच रिपोर्ट जिला शिक्षा अधिकारी को सौंप दी। रिपोर्ट में शराब पीने की शिकायत सही पाई गई। इसके बाद डीईओ डीके कौशिक ने कार्रवाई करते हुए शिक्षक को निलंबित कर दिया है।

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close