बिलासपुर। शिव चतुर्दशी व मासिक शिवरात्रि आज है। भक्त सुबह से भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने मंदिर और शिवालयों में जल चढ़ाने पहुंच रहे हैं। सोमवार भगवान भोलेनाथ का विशेष वार है इसलिए भक्तों की श्रद्धा और बढ़ जाती है। भोलेनाथ को प्रसन्न करने आज दिन भर विशेष पूजा-अर्चना होगी।गौरतलब है कि बिलासपुर के सभी मंदिर और शिवालयों में भक्तों की भीड़ पहुंच रही है।

शिव शंकर मंदिर के पुजारी पंडित रमेश तिवारी के मुताबिक प्रत्येक माह कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि के रूप में मनाया जाता है। इस बार आषाढ़ माह के कृष्ण पक्ष में होने वाली मासिक शिवरात्रि का व्रत सोमवार, 27 जून यानी आज रखना उचित है। मासिक शिवरात्रि पर व्रत रखने व पूजन करने से भगवान शिव अपने भक्तों को आशीर्वाद देते हैं और उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। मासिक शिवरात्रि पर भगवान शिव और माता पार्वती के साथ पूरे शिव परिवार की पूजा की जाती है।

भक्तों को विधिवत पूजा और शुभ मुहूर्त को लेकर जानकारी अति आवश्यक है। इस साल आषाढ़ चतुर्दशी सोमवार, 27 जून तड़के 03:25 बजे से प्रारंभ हो चुका है। वहीं आषाढ़ चतुर्दशी मंगलवार 28 जून सुबह 05:52 पर समाप्त होगी। भक्तों को यह याद रखना होगा की पूजा के लिए शुभ मुहूर्त- 27 जून देर रात 12:04 से 12 बजकर 44 मिनट तक रहेगा। पूजा की अवधि में रात्रि प्रहर में शिव पूजा के लिए 40 मिनट का शुभ समय है।

ज्योतिषाचार्य पंडित मनोज तिवारी के मुताबिक आषाढ़ माह में पड़ने वाली मासिक शिवरात्रि का काफी महत्व होता है। यह दिन माता पार्वती और भगवान शिव की पूजा के लिए समर्पित होता है। इस शिवरात्रि को करने से जीवन में सुख-समृद्धि बनी रहती है, निसंतान दंपत्ति को संतान की प्राप्ति होती है और रोगों से मुक्ति मिलती है। यही कारण है कि आषाढ़ मासिक शिवरात्रि के व्रत को मोक्ष, मुक्ति और स्वस्थ-समृद्धि प्रदान करने वाला व्रत माना जाता है।

पूजन की विधि ऐसे अपनाएं

  • मासिक शिवरात्रि की पूजा सुबह से लेकर रात्रि सभी पहर में की जाती है।
  • इस दिन आप सुबह और शाम कभी भी पूजा कर सकते हैं। पूजा में भगवान शिव जी के सामने एक दीपक जलाएं।
  • शिवलिंग पर जल, दूध, दही, शहद आदि से अभिषेक करें। भगवान को बेलपत्र, भांग, धतूरा, फूल, फल आदि चढ़ाएं।
  • पूजा में ‘ओम नमः शिवाय’ मंत्र का जाप करें और इसके बाद शिवजी की आरती करें। शिवजी के साथ ही माता गौरी, भगवान गणेश, भगवान कार्तिकेय और नंदी की भी पूजा करें।
  • भक्त यह भी याद रखें कि इस बार आषाढ़ मासिक शिवरात्रि सोमवार के दिन पड़ रही है। सोमवार का दिन भगवान शिवजी की पूजा के लिए समर्पित होता है। ऐसे में इस बार की मासिक शिवरात्रि का महत्व और अधिक बढ़ जाता है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close