बिलासपुर । विकासखंड स्तरीय शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक शाला चकरभाठा में तीन दिवसीय शाला सुरक्षा एवं व्यक्तिगत सुरक्षा का प्रशिक्षण दिया गया। समापन अवसर पर बीआरसीसी बिल्हा के देवी चंद्राकर ने कहा कि स्कूल में सुरक्षा, व्यक्तिगत सुरक्षा में आपदा में खतरे से बचाव किया जा सकता है। उन्होंने शाला सुरक्षा एवं व्यक्तिगत सुरक्षा के बारे में बताया।

उन्होंने प्रशिक्षित सभी शैक्षिक समन्वयक एवं शिक्षक अपने संकुल में सभी शिक्षकों को प्रशिक्षण देंगे इससे छोटी-मोटी समस्याओं से छात्र शिक्षक व पालक इन सभी से बचाव के तरीके जान पाएंगे । ज्ञात हो कि शिक्षा विभाग के निर्देशानुसार मुख्यमंत्री शाला एवं व्यक्तिगत सुरक्षा योजना के तहत बिल्हा ग्रामीण के प्राथमिक एवं पूर्व माध्यमिक शालाओं केे शिक्षकों को प्रशिक्षित करने के लिए मास्टर ट्रेनर के रूप में शैक्षिक समन्वय और शिक्षकों को तीन दिवसीय प्रशिक्षण दिया गया। उन्हें जानकारी दी गई कि कैसे आपदा विपदा में लोगों की जान बचाई जा सकती है। लैंगिक शोषण के प्रकार को बताते हुए आनलाइन शोषण से कैसे बचा जा सकता है इस पर भी विस्तार से जानकारी दी गई। प्रशिक्षण के दूसरे दिन डाइट पेंड्रा से नोडल अधिकारी वीके वर्मा एवं प्रशिक्षण प्रभारी एसके नोनिया ने निरीक्षण करते हुए बेहतर तरीके से प्रशिक्षण आयोजित होने की बात कही। मास्टर ट्रेनर गणेशीलाल गुप्ता, जयनारायण गुप्ता, प्रशिक्षण प्रभारी केशव कुमार वर्मा द्वारा दिया गया। इसे सफल बनाने में द्वारिका प्रसाद कश्यप, देव नारायण यादव ने सहयोग दिया।

सुहानी राष्ट्रीय एकता शिविर के लिए चयनित

करगीरोड-कोटा। राष्ट्रीय एकता शिविर के लिए शासकीय निरंजन केशरवानी कालेज कोटा से सुहानी जायसवाल का चयन युवा कार्यक्रम व खेल मंत्रालय भारत सरकार राष्ट्रीय सेवा योजना क्षेत्रीय निदेशालय भोपाल द्वारा किया गया है। शिविर का आयोजन रामचंद्र मिशन आश्रम परिसर अमलेश्वर, रायपुर है। शिविर में देश भर के स्वयंसेवक अपनी कला व संस्कृति विचारों का आदान प्रदान कर अनेकता में एकता का परिचय देंगे। शिविर की मेजबानी का अवसर पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय, रायपुर को मिला है। पीओ शितेष जैन ने बताया कि विवि में छह स्वयंसेवकों में एक सुहानी जायसवाल कोटा से है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close