बिलासपुर। राशन कार्ड के लिए भटक रहे दिव्यांगों को नईदुनिया की खबर के बाद राहत मिली है। अब 40 प्रतिशत से अधिक दिव्यांग होने का प्रमाण पत्र पेश करने पर खाद्य विभाग के अफसर तुरंत राशन कार्ड जारी कर रहे हैं। ऐसे में उन्हें राशन कार्ड बनवाने के लिए भटकना नहीं पड़ रहा है। अब तक 117 दिव्यांगों का राशन कार्ड बनाया जा चुका है।

प्रदेश में 40 प्रतिशत से ज्यादा दिव्यांगों का राशन कार्ड तत्काल बनाने का नियम है। आने जाने में असमर्थ होने के कारण उन्हें दिव्यांग प्रमाण पत्र और आधार कार्ड जमा करने पर तुरंत राशन कार्ड जारी करने का नियम है। लेकिन जिले में दर्जनों दिव्यांग राशन कार्ड के लिए भटक रहे थे। वे सरकारी योजना से पूरी तरह से वंचित थे। परिवार का भरण पोषण के लिए चावल तक नहीं मिलता था। दिव्यांगता के कारण कुछ काम करने में भी असमर्थ थे। इससे उनके सामने भुखमरी की स्थिति निर्मित हो गई थी। वे कलेक्टर से लेकर खाद्य विभाग के अफसरों के चक्कर लगाते-लगाते थक गए थे।

यह भी पढ़ें:बिलासपुर में दोबारा ताजी होंगी यादें,नाम लिखने के साथ लगाएंगे पौधे

लेकिन राशन कार्ड जारी नहीं किया जा रहा था। अधिकारी टालमटोल करते थे। इससे दिव्यांग मानसिक रूप से परेशान थे। नईदुनिया ने दिव्यांगों की समस्या को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। अगले ही दिन से अधिकारी हरकत में आए और दिव्यांगों का तुरंत राशन कार्ड जारी करने लगे। अब तक 117 दिव्यांगों को राशन कार्ड मिल चुका है।

अब योजना का मिल रहा लाभ

सरकंडा के साइंस कालेज के पास रहने वाली मिंत्रा पात्रे ने बताया कि वे बचपन से कमर के नीचे से दिव्यांग हैं। वे कई सालों से राशन कार्ड बनवाने के लिए सरकारी विभागों के चक्कर लगा रही थीं। आवेदन देने के बाद भी कार्ड नहीं बनाया जा रहा था। इससे परिवार के सामने भुखमरी की संकट पैदा हो गया था। नईदुनिया ने हमारी समस्या को सुनी। इसके बाद अफसरों ने राशन कार्ड बनाकर दिया है। अब चावल से लेकर अन्य राशन मिल रहा है।

मिलने लगा राशन

सकरी के रहने वाले घनश्याम बचपन से दृष्टि बाधित हैं। वे घूम-घूमकर भिक्षा मांगते हैं। राशन कार्ड नहीं बनने के कारण खुद का भरण पोषण करने में परेशानी होती थी। उन्होंने बताया कि विभाग के अफसर ध्यान भी नहीं नहीं दे रहे थे। नईदुनिया की पहल के बाद राशन कार्ड मिला है। अब सरकारी योजना के तहत चावल मिल रहा है। कार्ड से भविष्य में दूसरी योजनाओं का भी लाभ मिल पाएगा।

शारीरिक रूप से 40 प्रतिशत से अधिक दिव्यांगों को तुरंत राशन कार्ड जारी किया जा रहा है। इसके लिए दिव्यांग प्रमाण पत्र जमा करना है। आधार कार्ड व फोटो बाद में भी दे सकते हैं। दिव्यांगों के दस्तावेज की छानबीन करने की आवश्यकता नहीं है।

- राजेश शर्मा, जिला खाद्य अधिकारी।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close