बिलासपुर। जिला शिक्षाधिकारी कार्यालय ने कोरोना के बढ़ते रफ्तार को देखते हुए कांट्रेक्ट ट्रेसिंग के लिए एक बार फिर शिक्षकों की ड्यूटी लगाई है। इन शिक्षकों को सीएमओ कार्यालय से तत्काल सम्पर्क कर अपनी उपस्थिति दर्ज कराने कहा गया है। पत्र की खास बात ये कि कलेक्टर के आदेश पर ड्यूटी लगाने की बात डीईओ कार्यालय ने बताई है। अमले की कमी से जगह रहे स्वास्थ्य विभाग ने कांट्रेक्ट ट्रेसिंग के नाम पर एक बार गैर तकनीकी कर्मचारियों के भरोसे काम पूरा करना चाहता है। इसके चलते कसम प्रभावित होने की आशंका भी जताई जा रही है।

डीईओ कार्यालय ने ये बताया कारण

• कलेक्टर बिलासपुर के निर्देशानुसार कोविड़-19 के रोकथाम के लिए कान्ट्रेक्ट ट्रेसिंग के कार्य को कम्प्यूटर में अद्यतन करने संबंधी कार्य हेतु मुख्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी, बिलासपुर के निर्देशन में कार्य करने जिला ग्रंथालय (सेन्ट्रल लाईब्रेरी) केम्पस में शिक्षकों की ड्यूटी लगाई गई है।

बृजेन्द्र तिवारी, सहा.शि. ,शास. बा. उमावि. सीपत, मस्तूरी, समीर कुमार कौशिक, सहा.शि. शास.प्रा.शा. घोघाडीह, तखतपुर, दिनेश राधे, सहायक शिक्षक शास. प्रा. शा.उड़ेला, तखतपुर, पवन कुरै, सहा.शिक्षक, शास.प्रा.शा. बहतराई, तखतपुर, शास.प्रा.शा. चिचिरदा, तखतपुर, प्रकाश शुक्ला, सहा.शि.शास.प्रा.शा. चिचिरदा, तखतपुर

सीएमओ कार्यालय में देनी होगी उपस्थिति

जिला शिक्षाधिकारी कार्यालय से जारी पत्र में शिक्षकों को सोपे गए दायित्व के निर्वहन के लिए तत्काल मुख्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी कार्यालय, बिलासपुर में अपनी उपस्थिति देना सुनिश्चित करने कहा गया है।

अमले की कमी बना कारण

स्वास्थ्य विभाग में अमले की कमी के कारण जिला प्रशासन द्वारा अन्य विभागों के कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई जा रही है। अचरज की बात ये इन कर्मचारियों को कोरोना जांच से सम्बंधित प्रारम्भिक और तकनीकी जानकारी भी नहीं है। जाहिर है इनके लिए भी खतरा कम नहीं है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local