बिलासपुर। यात्रियों के लिए 139 हेल्पलाइन नंबर काफी मददगार साबित हो रहा है। यदि यात्री ने इसमें सूचना दे दी उसे मदद मिलनी तय रहती। ऐसा ही एक मामला सामने आया है, जिसमें ट्रेन में छूटे एक यात्री के इलेक्ट्रानिक उपकरणों को सुरक्षित लौटाया गया। इससे यात्री के मायूस चेहरे पर खुशी झलक उठी। मामला साउथ बिहार एक्सप्रेस का है। कोरबा एसईसीएल कालोनी निवासी विशाल पीटर इस ट्रेन में राजेंद्रनगर से चांपा तक यात्रा कर रहे थे। उनका रिजर्वेशन बी-1 कोच की बर्थ संख्या 32 में था। वह कार्टून में बंद इलेक्ट्रानिक उपकरण लेकर आ रहे थे। कार्टून को उन्होंने सुरक्षित बर्थ के नीचे रखा था, ताकि चोरी न हो। ट्रेन में जरा सी नजरें ओझल होती है, उसी समय सामान पार हो जाता है। पर चांपा रेलवे स्टेशन में उतरते समय यात्री हड़बड़ी में कार्टून को ही ट्रेन से उतराना भूल गए। जब ट्रेन वहां से रवाना हो गई, तब उन्हें अचानक याद आया।

इलेक्ट्रानिक उपकरणों को लेकर परेशान हो गए। इसी बीच उन्होंने इसकी सूचना 139 पर दी। इस दौरान सबसे पहले ट्रेन का लोकेशन देखा गया। उस समय ट्रेन बिलासपुर पहुंचने वाली थी। लिहाजा बिलासपुर मंडल सुरक्षा नियंत्रण कक्ष को सूचना दी गई। यहां से आरपीएफ पोस्ट को कहा गया कि तत्काल ट्रेन से सामान उतार लें। बल सदस्य ने ट्रेन अटेन की और लगेज को बंद अवस्था में टीए ड्यूटी में लाकर जमा किया गया एवं देखने से उसमे इलेक्ट्रानिक उपकरण प्रतीत हो रहा था। हालांकि उसे नहीं खोला गया। यात्री को सामान सुरक्षित ट्रेन से उतारने की सूचना दी गई। इसके बाद यात्री आरपीएफ पोस्ट पहुंचा।

ट्रेन में कार्टून छूटने की वजह बताई। इसके अलावा कागजी प्रक्रिया पूरी करते ही उन्हें कार्टून को लौटा गया। कार्टून के अंदर तीन छोटे स्पीकर. एक बार एवं एक बूफर थे। यात्री ने पोस्ट में ही कार्टून को खोलकर देखा और सभी सामान सुरक्षित होने की पुष्टि की। उक्त इलेक्ट्रानिक उपकरणों की अनुमानित कीमत 15 हजार रुपये से अधिक बताई जा रही है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close