बिलासपुर। Bilaspur News: छत्तीसगढ़ प्रदेश लिपिक वर्गीय शाकीस कर्मचारी संघ के अध्यक्ष रोहित तिवारी ने कहा कि सीपत तहसीलदार तुलसी राठौर अपने अधिनस्थ कर्मचारियों को लगातार प्रताड़ित कर रही हैं। दफ्तर में भय का माहौल है। प्रशासनिक आतंकवाद का आरोप लगाते हुए रोहित तिवारी ने कलेक्टर से मांग की है कि तहसीलदार के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए। कर्मचारी संघ की मांग पर गंभीरता के साथ विचार ना करने की स्थिति में उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है।

कर्मचारी संघ के प्रदेशाध्यक्ष तिवारी ने कहा कि उनके द्वारा खुलेआम सिविल सेवा आचरण नियमों का उल्लंघन करते हुए शासन प्रशासन की छवि धूमिल की जा रही है। उनकी कार्यशैली के विषय में संघ के पास बहुत सी शिकायतें प्राप्त हुई है। वर्तमान की घटित घटना निंदनीय है। चार सितंबर 2021 को सीपत तहसील कार्यालय बिलासपुर में पदस्थ भरत लाल सूर्यवंशी को अपने चेंबर में बुलाकर जमकर फटकार लगाई थी। फटकार से निराश लिपिक अपने घर चले गए।

डांट फटकार से वे सदमे में थी और उसी दिन रात 11 बजे हार्ट अटैक से उनकी मौत हो गई। तिवारी ने बताया कि अधीनस्थ कर्मचारी बीपी मिश्रा सहायक ग्रेड दो उस वक्त मौजूद थे। उन पर तहसीलदार ने उन पर थाने में रिश्वत लेने का झूठी आरोप लगाती हुई थाने में एफआइआर करा दिया। पुलिस द्वारा गैर जमानती धारा में अपराध दर्ज करने के कारण उक्त लिपिक गिरफ्तारी के भय से दर-दर की ठोकरें खा रहा है। बीपी मिश्रा की उम्र 58 वर्ष के करीब है।

शासकीय सेवा करते हुए लगभग तीन दशक से अधिक समय व्यतीत हो चुका है। उनका स्वास्थ्य ठीक नहीं है।

संघ के प्रदेशाध्यक्ष तिवारी ने तहसीलदार तुलसी राठौर को तत्काल सीपत से अन्यत्र स्थानांतरित करने की मांग कलेक्टर से की है। भरत लाल सूर्यवंशी सहायक ग्रेड दो की मृत्यु की न्यायिक जांच की मांग भी संघ ने की है।

निकालंेगे न्याय रैली

कर्मचारी संघ ने मृत कर्मचारी को न्याय दिलाने और तहसीलदार के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर बुधवार को न्याय रैली निकालंेगे। इस दौरान मुख्यमंत्री,राजस्व मंत्री के साथ ही कलेक्टर व संभागायुक्त से न्याय मांगेंगे।

Posted By: sandeep.yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local