बिलासपुर। सरकारी स्कूलों में शिक्षा का गुणवत्ता बनाए रखने के लिए बच्चों का स्कील बढ़ाने पर जोर दिया रहा है। कमजोर बच्चों पर शिक्षकों की नजर रहेगी। जिन विषयों को पढ़ने में अरुचि रहेगी या जो विषय कठिन लगेगा उस पर ज्यादा नजर रखी जाएगी। बच्चों को खेल-खेल में शिक्षा देने की योजना भी बनाई गई है। कठिन विषयों को वैज्ञानिक तकनीक से पढ़ाने की कोशिश रहेगी।

कोरोना संक्रमणकाल के दौरान बीते दो वर्ष तक आनलाइन कक्षाओं का संचालन होते रहा है। दो साल आफलाइन कक्षाओं की शुरुआत होगी। 16 जून से शैक्षणिक सत्र प्रारंभ होगा। इसे देखते हुए स्कूल शिक्षा विभाग ने शिक्षा का गुणवत्ता बढ़ाने और बच्चों में अध्ययन अध्यापन के प्रति रुचि जगाने के लिए किन योजनाओं को लागू किया जा सकता है इस पर फोकस किया जा रहा है।

हर महीने इकाई परीक्षा का आयोजन किया जाएगा। इसमें उन प्रश्नों को शामिल किया जाएगा जिसकी पढ़ाई हो चूकी है। अधिकतम 40 नंबर का प्रश्न पत्र होगा। बच्चों के उत्तर लिखने की शैली से लेकर उनकी रुचि का खास ख्याल रखा जाएगा। छात्रों के व्यक्तित्व विकास और बुनियादी कौशल को बेहतर बनाने पर जोर दिया जाएगा।

बच्चों के मन में राष्ट्रभावना जगाने की कोशिश

स्कूल लगने से पहले 15 मिनट की प्रार्थना सभा का आयोजन किया जाएगा। प्रार्थना सभा के दौरान राष्ट्रगीत, राष्ट्रगान, राजगीत का वाचन किया जाएगा। बच्चों का सामान्यज्ञान बढ़ाने के लिए प्रमुख समाचार पत्रों के हेडलाइन का वाचन भी किया जाएगा। लोककथाओं का वाचन किया जाएगा।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close