बिलासपुर। बिल्हा के जिला सहकारी केंद्रीय बैंक में प्रिंटर दो साल से खराब है। इसके चलते पासबुक में लेनदेन संबंधी अपडेट नहीं हो रहा है। इससे किसानों को परेशानी हो रही है। उन्हें पता नहीं चल पाता है कि बैंक खाते में कितना पैसा जमा है। इसकी शिकायत कई बार बैंक मैनेजर से की जा चुकी है, लेकिन अभी तक समस्या का समाधान नहीं किया जा सका है। बिल्हा शाखा बैंक में आसपास के 85 गांव के किसान लेनदेन करते हैं। करीब 22,000 खाते हैं। यहां रोजाना सैकड़ों की संख्या में किसान लेनदेन करने आते हैं। खाते में पैसा जमा करने या फिर निकालने के बाद पासबुक को में जानकारी प्रिंट करने के लिए कहते हैं।

तब बैंककर्मी मशीन खराब होने की बात करते हुए पासबुक में जानकारी अपडेट नहीं करते हैं। दो साल से मशीन खराब पड़ी है। मशीन को सुधरवाने के लिए भी प्रयास नहीं किया जा रहा है। इसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है। इससे किसानों को धोखाधड़ी के शिकार होने का डर सताने लगा है। दूसरे बैंकों में किसानों के खाते से रकम गायब हो चुकी है। यहां काम का दबाव ज्यादा होने के कारण किसान परेशान रहते हैं। किसानों ने बरतोरी और दगोरी के किसानों ने दोनों जगह ब्रांच खोलने की मांग कर चुके हैं। इससे काम का दबाव कम हो जाएगा। दूसरी ओर बैंक मैनेजर द्वारा नए ब्रांच खोलवाने के लिए उच्चाधिकारियों को कभी पत्रचार तक नहीं किया है।

यह बैंक छोटी बिल्डिंग में संचालित हो रही है। यहां बैठने के लिए जगह नहीं मिलता है। बैंक के बाहर तक किसानों की लाइन लगी रहती है। बैंक परिसर में शौचालय की सुविधा तक नहीं है। साथ ही पीने के लिए पानी तक उपलब्ध नहीं हैं। इससे किसानों को मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है। बैंक मैनेजर यहां मूलभूत सुविधाओं को लेकर भी ध्यान नहीं देते हैं। मनमुताबिक काम करते हैं। इसके बाद कर्मचारी गायब हो जाते हैं।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close