बिलासपुर। Bilaspur News: आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) सीटों में अब छात्र-छात्राएं प्रवेश ले सकेंगे। गुरु घासीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय प्रशासन ने अधिसूचना जारी कर उन बच्चों को राहत दी है जो प्रवेश के लिए आवेदन करने के बाद भी ईडब्ल्यूएस सीट में प्रवेश से वंचित हो गए थे। अब वे छात्र 27 नवंबर तक अपना प्रमाण पत्र व आवेदन जमा कर सकेंगे।

भारत में आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) जनरल वर्ग से संबंधित लोगों की एक उपश्रेणी है, जिनकी वार्षिक पारिवारिक आय सलाना आठ लाख से कम है और जो बिल्कुल किसी भी वर्ग जैसे अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग से संबंधित नहीं हैं।

छात्रों के लिए केंद्रीय विश्वविद्यालय के प्रत्येक विभाग में 10 प्रतिशत सीट आरक्षित है। कोरोना महामारी के चलते इस वर्ष स्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश के दौरान ईडब्ल्यूएस सीटों को नहीं भरा गया। जिसे लेकर छात्रों ने आंदोलन भी किया था। विद्या परिषद की स्थायी समिति से हरी झंडी मिलने के बाद अब विश्वविद्यालय प्रशासन ने छात्रों को दोबारा आवेदन व प्रमाण पत्र जमा करने कहा है।

पीजी में मेरिट सूची कल

केंद्रीय विश्वविद्यालय में स्नातकोत्तर की सीटों में प्रवेश को लेकर प्रक्रिया चल रही है। 24 नवंबर को दस्तावेज जमा करने अंतिम दिन था। आज स्कु्रटनी की प्रक्रिया पूरा होने के बाद 27 नवंबर को मेरिट सूची का प्रकाशन किया जाएगा। 32 विभागों में स्नातक के 500 से अधिक सीटें हैं।

रिक्त सीटों में मिले प्रवेश

छात्र परिषद ने इधर स्नातक के रिक्त सीटों में प्रवेश की मांग किया है। अध्यक्ष सचिन गुप्ता ने इस संबंध में कुलपति प्रो.शैलेंद्र कुमार को पत्र भी लिखा है। जिसमें कहा है कि स्नातक के रिक्त सीटों में वंचित छात्रों को सीधे प्रवेश दिया जाए। यूजीसी ने 30 नवंबर तक प्रवेश की प्रक्रिया इस वर्ष पूरा करने का आदेश दिया है। प्रबंधन को छात्रहित में निर्णय लेना चाहिए।

Posted By: anil.kurrey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस