बिलासपुर। छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री स्व.अजित जोगी की प्रतिमा स्थापित करने के लिए जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के बिलासपुर के कार्यकर्ताओं ने जगह देने की मांग की है। सोमवार को कार्यकर्ताओं ने कलेक्टर डा. सारांश मित्तर को ज्ञापन सौंपा है। शहर अध्यक्ष प्रशांत त्रिपाठी ने कहा कि छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी एक युग पुरुष थे। छत्तीसगढ़ के माटी में एक गरीब आदिवासी के घर जन्मे जोगी ने गरीबी लाचारी और असहाय से भरे विषम काल में पल बडे और परिस्थितियों से लड़कर गोल्ड मेडलिस्ट, इंजीनियर, प्रोफेसर, आइपीएस एवं आइएएस बने।

छत्तीसगढ़ के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया। छत्तीसगढ़ राज्य बनने के उपरांत राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री बनकर उन्होंने छत्तीसगढ़ की अस्मिता और मान बढ़ाया और सदैव गरीबों, अनुसूचित जनजाति असहाय और पिछड़ों के उत्थान और सेवा के लिए कार्य किया। अपना संपूर्ण जीवन न्यौछावर किया। अजीत जोगी ने राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय स्तर पर अनेकों मौकों पर भारत का प्रतिनिधित्व कर छत्तीसगढ़ का मान बढ़ाया।

जिला ग्रामीण अध्यक्ष विश्वंभर गुलहरे ने कहा कि स्व.जोगी ने अपने मुख्यमंत्रित्व काल में किसानों के धान का एक-एक दाना खरीदकर न केवल छत्तीसगढ़ के किसानों के आर्थिक संकट से उबारा बल्कि पूरे देश में किसान और किसानी के प्रति केंद्र सरकार और अन्य राज्यों की सरकारों के समक्ष उदारहण प्रस्तुत कर, कृषि संवेदनशील का अहसास कराया। छत्तीसगढ़ के लोगों को जोगी से अपार स्नेह था। आम लोगो ने उन्हें कभी भी नेता नहीं बल्कि घर के एक सदस्य के रूप में मान बढ़ाया।

छत्तीसगढ़ की ढाई करोड़ जनता की जनभावनाओं का सम्मान करते हुए छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री अजीत जोगी की प्रतिमा के लिए सार्वजनिक स्थान पर जमीन आवटित करे। ताकि उनकी प्रतिमा स्वरूप से उनके आदर्श लोगों के हृदय में अविस्मरणीय बने रहे। छत्तीसगढ़ महतारी के कोख से जन्मे, छत्तीसगढ़ की अस्मिता, माटी, जाति और मान के लिए समर्पित रहे, ऐसे छत्तीसगढ़ रत्न की जीवनी, उनका परिश्रम और जनसेवा भाव उनकी प्रतिमा के प्रतीक के रूप में आने वाली पीढ़ी के लिए प्रेरणादायक बने।

Posted By: anil.kurrey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close